ऐसा क्या हुआ कि ग्रामीणों ने हाथों से उखाड़ दी सड़क


ऐसा क्या हुआ कि ग्रामीणों ने हाथों से उखाड़ दी सड़क सरमथुरा. उपखंड क्षेत्र में पिपरेट ग्राम पंचायत के खोखला गांव के लिए बन रही सडक़ निर्माण में ग्रामीणों ने घटिया निर्माण सामग्री उपयोग करने का आरोप लगाया है। ग्रामीणों ने शनिवार सुबह इक_ा होकर निर्माण कार्य को बंद करा दिया। साथ ही सरकार व प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन किया। ग्रामीणों ने आरोप लगाया कि सरकार व विभाग की मिलीभगत के चलते ठेकेदार द्वारा सडक़ निर्माण को लेकर घटिया सामग्री का प्रयोग कर रहा है। खोखला के ग्रामीण दीपू मीणा, देवीचरन मीणा, बनिया राम मीणा, भगवान मीणा ने आरोप लगाते हुए कहा है कि सार्वजनिक निर्माण विभाग द्वारा लाखों रुपए की लागत से रेलवे क्रासिंग से खोखला गांव तक सडक़ का निर्माण करवाया जा रहा है। इसके लिए निजी कंपनी के ठेकेदार को ठेका दिया गया है। उन्होंने बताया कि उपरोक्त निर्माण कार्य के निर्माण के लिए समय अवधि भी निर्धारित की गई है। प्रदर्शनकारी ग्रामीणों ने आरोप लगाते हुए बताया कि खोखला गांव के समीप संबंधित कंपनी के कर्मचारी सडक़ का निर्माण कार्य कर रहे थे, तो उसमें सरकारी मापदंड के तहत सामग्री का प्रयोग नहीं किया जा रहा था, बल्कि मिट्टी आदि पर ही नाममात्र के लिए तारकोल डाली जा रही थी। ग्रामीणों का गुस्सा सुबह उस समय बढ़ गया, जब उन्होंने नई बनाई गई सडक़ को हाथों से ही उखाड दिया। इसके बाद विरोध स्वरूप विभिन्न गांवों के लोग एकत्रित हो गए और उन्होंने सडक़ के निर्माण को रुकवाते हुए विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया। उन्होंने आंगई गांव स्थित रेलवे क्रॉसिंग से खोखला गांव तक बनाई जा रही सडक़ की उच्चाधिकारियों द्वारा उचित जांच की मांग की हैं।

सरमथुरा. खोखला गांव में हाथों से निर्माणाधीन सडक़ को खोद कर दिखाते हुए ग्रामीण।



Source link