महात्मा गांधी का अपमान करने वाले कालीचरण ने जेल में करवटें बदलते गुजारी पहली रात, सुबह लगाया ध्यान


रायपुर. राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के खिलाफ अपशब्द कहने वाले कालीचरण (Kalicharan) ने जेल में पहली रात दाल-रोटी खाकर करवटें बदलते हुए रात गुजारी। शनिवार अलसुबह उठकर दैनिक कार्यो से निवृत्त होकर ध्यान लगाया। पूजापाठ करने के बाद नियमानुसार नाश्ते में चाय और दलिया दिया गया। हालांकि जेल जाने के बाद से उन्हें काफी तनाव में देखा गया है। कालीचरण को 14 नंबर सेल में रखा गया है।

बताया जाता है कि जेल का खाना परोसे जाने पर अपने पसंद का खाना मांगा गया था। लेकिन, जेल नियमावली का हवाला देते किसी भी तरह की वीआईपी सुविधा देने से मना कर दिया गया। बता दें कि महाराष्ट्र के संत कालीचरण पर राजद्रोह का जुर्म दर्ज किया गया है। पुलिस ने खजुराहो से गिरफ्तार करने के बाद 30 दिसंबर को कोर्ट में पेश किया था। साथ ही पूछताछ के लिए 2 दिन के रिमांड पर लिया गया था। लेकिन, पूछताछ एक दिन में पूरी करने के बाद न्यायिक मजिस्ट्रेट प्रथम श्रेणी चेतना ठाकुर की अदालत में पेश कर 13 दिन की न्यायिक रिमांड पर जेल भेजा गया है।

अंदर जाने से पहले चीखते हुए कही ये बात
कालीचरण ने जेल के भीतर प्रवेश करने से पहले दरवाजे पर खड़े होकर चीखते हुए कहा कि सारी हिंदू एक हो जाओ। जोर से बोलने पर जेल के प्रहरी भी सहम गए थे। उन्हें जल्दी से जेल के भीतर ले जाया गया। पहले सामानों की तलाशी ली गई। इस दौरान किसी भी तरह की आपत्तिजनक नहीं मिलने पर कपड़े और कुछ अन्य सामानों को साथ ले जाने दिया। बताया जाता है कि उनके खाने के लिए बाहर से खाना भी उनके समर्थकों द्वारा लाया गया था। लेकिन जेल मैन्युअल का हवाला देते हुए वापस कर दिया गया।

जेल में हाथ जोड़कर किया अभिवादन
जेल में सभी से कालीचरण ने हाथ जोड़कर जय महाकाली कहकर मुस्कुराते हुए हाथ जोड़कर अभिवादन किया। जेल कार्यालय में औपचारिक दस्तावेजी कार्रवाई करने के बाद उन्हें अलग से बनाए गए बैरक में ले जाया गया। बताया जाता है कि शनिवार को उनके समर्थकों ने मुलाकात करने की कोशिश की। लेकिन, जेल नियमावली का हवाला देते हुए इजाजत नहीं दी गई।

स्वास्थ्य की जांच
जेल परिसर स्थित अस्पताल के डाक्टरों द्वारा कालीचरण और संजय दुबे के स्वास्थ्य की जांच की गई। इस दौरान संजय दुबे काफी घबराए हुए थे। डाक्टरों ने उन्हें किसी भी तरह का तनाव नहीं लेने की हिदायत दी। साथ ही कहा कि वह शांत रहे। वहीं कालीचरण ने शांति से ब्लडप्रेशर चेक करवाया।



Source link