टे्रनों में खुले आम उड़ रही कोरोना गाइडलाइन की धज्जियां


सवाईमाधोपुर.वर्तमान समय में पूरे प्रदेश एवं देश की सरकार ऑमिक्रोन सहित कोरोना के मामले बढ़ते जाने से चिंतित है । ऐसे में सरकार की ओर से सुरक्षा की दृष्टि से पहले की भांति कई तरह की पाबंदी लगाई जा रही है और नई गाइडलाइन भी जारी की जा रही है। इसके तहत शादी समारोह में एक बार फिर से मेहमानों की संख्या को सिमित कर दिया गया है। साथ ही अंतिम संस्कार में भी संख्या 20 कर चुके हैं । लेकिन इन सब की पालना करवाने वाले जिम्मेदार कर्मचारी एवं अधिकारी आंखें मूंदकर बैठे हैं। ऐसा ही नजारा इन दिनों स्थानीय रेलवे स्टेशन पर देखने को मिल रहा है। स्थानीय रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नंबर चार पर जयपुर बयाना रेल में रविवार शाम को देखने को मिला । जिसमें क्षमता से करीब 3 गुना सवारियां ओवरलोड भरी हुई थी एवं स्टेशन पर सैकड़ों की संख्या में दरवाजे पर लोग उतरने एवं चढऩे की होड मचाते हुए देखे गए।
आरपीएफ व जीआरपी के जवान रहे नदारद
टे्रनों मेंं भी कोरोना गाइड लाइन की पालना जरूरी है। लेकिन इसके बाद भी टे्रनों की आवाजाही के दौरान एक भी कर्मचारी नजर नहीं आ रहा है। जबकि ट्रेन के साथ में बतौर सुरक्षा के जीआरपी पुलिस एवं आरपीएफ पुलिस का होना अनिवार्य होता है लेकिन रविवार को बयाना जयपुर फास्ट पैसेंजर ट्रेन पर एक भी सुरक्षाकर्मी नजर नहीं आया । वहीं टे्रन में सवार यात्रियों ने भी मॉस्क नहीं लगा रखा था।
नहीं हो रही सेंपलिंग
पूर्व में कोरोना संक्रमण के दौरान रेलवे व चिकित्सा विभाग की ओर से प्लेटफार्म पर यात्रियों की स्क्रीनिंग की जा रही थी। इसके लिए प्रशासन की ओर से कार्मिकों को भी तैनात किया गया था लेकिन अब यह पूरी तरह बंद हो गया है। वर्तमान में रेलवे की ओर से यात्रियों की स्क्रीनिंग के कोई प्रबंध नहीं किए हैं।
इनका कहना है….
बयाना जयपुर फास्ट पैसेंजर ट्रेन में गंगापुर से सवाई माधोपुर तक गंगापुर जीआरपी थाना का जाब्ता लगाया जाता है । मुख्य रूप से ट्रेन की एवं यात्रियों की सुरक्षा का जिम्मा आरपीएफ पुलिस का होता है फिर भी इस बारे में और कढ़ाई से गाइडलाइन की पालना करवाई जाएगी।
– लादूराम, थानाधिकारी, जीआरपी, सवाईमाधोपुर।



Source link