नए साल पर योगी सरकार ने मान्यता प्राप्त निजी स्कूलों के शिक्षकों को दिया बड़ा तोहफा, अब नहीं जाएगी नौकरी


उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 से पहले मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के नेतृत्व वाली सरकार लोगों को एक के बाद एक बड़ा तोहफा दे रही है। इसी कड़ी में नए साल पर योगी सरकार ने मान्यता प्राप्त गाजियाबाद, नोएडा, ग्रेटर नोएडा और हापुड़ के निजी स्कूलों में कार्यरत शिक्षकों को बड़ा तोहफा दिया है। नई व्यवस्था के तहत अब स्कूल शिक्षकों और कर्मचारियों को आसानी से अपनी मनमानी कर नहीं निकाल सकेंगे। क्योंकि शिक्षा विभाग ने अब सभी मान्यता प्राप्त स्कूलों के लिए शिक्षकों और कर्मचारियों का डेटा देना अनिवार्य कर दिया है। इसके लिए उन्हें यू-डायस पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। इस व्यवस्था के तहत स्कूल संचालक शिक्षकों और कर्मचारियों के साथ मनमानी नहीं कर पाएंगे। इस नई व्यवस्था से उन शिक्षकों को बड़ी राहत मिली है, जिन्हें अक्सर नौकरी से निकालने का डर दिखाया जाता है।

उल्लेखनीय है कि कोरोना महामारी के दौरान मान्यता प्राप्त स्कूलों ने ऑनलाइन क्लास के माध्यम से क्लास चलाते हुए बच्चों से फीस तो वसूली, इसके बावजूद मनमानी करते हुए हजारों शिक्षकों को या तो वेतन नहीं दिया या फिर उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया था। लेकिन, अब ऐसा नहीं हो सकेगा। पुरानी व्यवस्था के तहत शिक्षा विभाग के पास स्कूल की मान्यता से संबंधित दस्तावेज तो होते हैं, लेकिन शिक्षकों और कर्मचारियों का कोई डेटा नहीं होता है। इसलिए स्कूल मनमाने तरीके से स्टाफ रखते और निकालते रहते हैं। वहीं, अब नई व्यवस्था में स्कूल स्टाफ को अपने हिसाब से ही रख सकेंगे, लेकिन उन्हें निकाल नहीं सकेंगे। स्कूलों की बढ़ती मनमानी के चलते ही सरकार ने यह नई व्यवस्था की है। सभी स्कूलों को शिक्षा विभाग के यू डायस पोर्टल पर पूरे स्टाफ का डेटा डालाना होगा।

यह भी पढ़ें

GATE Exam 2022 Alert : आज से डाउनलोड होंगे एडमिट कार्ड, फरवरी में इस तारीख से होगी परीक्षा

जल्द ही लागू होगी नई व्यवस्था बेसिक शिक्षा अधिकारी धर्मेंद्र सक्सेना का कहना है कि सभी स्कूलों को नई व्यवस्था के तहत जल्द ही निर्देशित कर दिया जाएगा। सभी मान्यता प्राप्त स्कूलों नए नियमों का पालन करना अनिवार्य होगा। इसका सीधा लाभ शिक्षकों को मिलेगा। नई व्यवस्था के तहत स्कूलों को स्टाफ की नियुक्ति करने से पहले शिक्षा विभाग से अनुमति लेना अनिवार्य होगा। अगर स्टाफ स्कूल प्रबंधन पर किसी तरह के आरोप लगाए तो विभाग इस संबंध में जानकारी होनी चाहिए।

यह भी पढ़ें

आईआईटी कानपुर के वैज्ञानिक का दावा, दूसरे फेज की तरह घातक नहीं होगी कोविड की तीसरी लहर, अप्रैल तक हो जाएगी खत्म

स्टाफ की ये जानकारी भरना होगा अनिवार्य शिक्षा विभाग के पोर्टल पर स्कूल प्रबंधन को यू-डायस नंबर के साथ स्कूल का प्रकार, स्कूल की मान्यता तिथि के विषय में जानकारी अपलोड करनी होगी। इसके साथ ही स्कूल में कार्यरत स्टाफ की जानकारी भी देनी होगी। जैसे- कर्मचारी की जन्मतिथि, शैक्षिक योग्यता, पदनाम, स्कूल में नियुक्ति की तिथि और सैलरी आदि का विवरण देना होगा।



Source link