FRAUD : क्रिप्टो करेंसी में निवेश के बहाने की थी करोड़ों की ठगी


सूरत. क्रिप्टो करेंसी व फोरेक्स ट्रैडिंग में निवेश करने पर प्रतिदिन एक प्रतिशत कमीशन का झांसा देकर निवेशकों के साथ ठगी करने वाले दो फर्जी कंपनियों के तीन प्रमोटरों में से को आर्थिक अपराध शाखा ने चड़ीगढ़ से गिरफ्तार किया है। जयपुर से फरार होने के बाद वह चंड़ीगढ़ के एक होटल में छिपा था।

पुलिस के मुताबिक राजस्थान के जयपुर जगतपुरा श्यामकुंज निवासी आरोपी मनोज पटेल (34) ने युसुफ उर्फ शेरअली व अविका मिश्रा के साथ मिल कर महिधरपुरा में टेक्स कंसल्टंट कंपनी के संचालक रामदयाल पुरोहित व उनके चार परिचितों के 2.66 करोड़ रुपए की ठगी की थी। 2019 में रामदयाल मनोज के संपर्क में आए थे।

अलथाण क्षेत्र के एक होटल में मुलाकात के दौरान मनोज ने बताया था कि उनकी कंपनी आईमैक्स केपीटल का थाईलैण्ड में रजिस्ट्रेशन हुआ है। उनकी कंपनी फोरेक्स ट्रैडिंग, क्रिप्टो करेंसी व आर्बिटॉज प्लेटफार्म में निवेश करने पर प्रतिदिन एक प्रतिशत रिटर्न देती है। इस पर रामदयाल व उसके तीन परिचितों ने निवेश किया लेकिन उनमें से सिर्फ एक सागर पटेल को रिटर्न के तौर पर 51 हजार 150 रुपए मिले।

अन्य लोगों को कुछ नहीं मिला। इस बीच जयपुर में उनकी कंपनियां फर्जी होने का खुलासा हुआ और जयपुर में मनोज और उसके साथी पकड़े गए। इस पर रामदयाल ने इस संबंध में सूरत में गत 10 दिसम्बर को प्राथमिकी दर्ज करवाई। जयपुर में रिहा होने के बाद मनोज चंड़ीगढ़ भाग गया था। चंडीगढ़ शहर के निकट जिकरपुर के एक होटल में छिप कर रह रहा था।

उसके बारे में पुलिस को सूचना मिलने पर सूरत से गई पुलिस ने टीम ने उसे गिरफ्तार कर लिया। मनोज ही फर्जी आईमैक्स केपीटल और आईमैक्स ग्लोबल कंपनियां बनाई थी और उनका मुख्य प्रमोटर था। मनोज के सात दिन के रिमांड पर लेकर उससे सूरत में निवेशकों के साथ हुई ठगी के बारे में विस्तृत पूछताछ की जा रही है।



Source link