सर्दी-खांसी-बुखार ही नहीं, ये लक्षण भी ला सकते हैं कोरोना


भोपाल. मध्यप्रदेश में कोरोना के कारण हालात फिर बिगड़ रहे हैं. प्रदेश में कोरोना के 1000 से ज्यादा मरीज पिछले 24 घंटे में ही मिल चुके हैं. इनमें से भी आधे से ज्यादा मरीज केवल इंदौर में ही हैं. बिगड़ती स्थिति को देखते हुए केंद्र सरकार ने कोरोना प्रोटोकाल में बदलाव किया है जिसपर मध्यप्रदेश में भी अमल किया जाने लगा है. इस नए प्रोटोकाल के अनुसार केवल सर्दी—खांसी या बुखार आने को ही कोरोना का लक्षण नहीं माना गया है बल्कि कुछ अन्य लक्षण भी बताए गए हैं.

केंद्र की नई गाइडलाइन पर अमल करते हुए प्रदेश सरकार ने भी अलर्ट रहने की जरूरत बताई है. वर्तमान में हालात खराब हैं पर इसके बावजूद अभी करीब 10% मरीजों को ही अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत पड़ रही है. हालांकि सरकार का यह भी कहना है कि कोई भी परेशानी होने पर तुरंत अस्पताल पहुंचकर डाक्टर्स से परामर्श लेना जरूरी है.

यह भी पढ़ें : घर पर ही करनी पड़ेगी पढ़ाई, अभिभावकों को दिए नोटिस

corona3.png

प्रतिष्ठित डाक्टर्स और एक्सपर्ट बता रहे हैं कि तीसरी लहर में कोरोना के मरीजों की संख्या में तेजी से इजाफा जरूर हो रहा है पर ज्यादातर मरीजों की हालत स्टेबल है. इस बार कोरोना संक्रमित जल्दी ठीक भी हो रहे हैं. एक्सपर्ट इसका कारण भी बता रहे हैं. डाक्टर्स के अनुसार चूंकि अधिकांश लोग वैक्सीनेटेड हैं इसलिए उनमें हर्ड इम्युनिटी भी विकसित हो चुकी है. यही वजह है कि लोग संक्रमित तो हो रहे हैं पर संक्रमण के बाद जल्दी ठीक भी हो रहे हैं. इसके बावजूद लापरवाही बरतना महंगा पड सकता है. इसी को देखते हुए केंद्र सरकार ने नई गाइडलाइन जारी की है.

इन लक्षणों पर हो जाएं सतर्क, बरतें सावधानी
— सांस लेने में दिक्कत आ रही हो.
— लगातार 100 डिग्री से ज्यादा फीवर बना रहता हो.
— सीने में लगातार दबाव महसूस करना या दर्द होना
— थकान महसूस करना और मांसपेशियों में लगातार दर्द बने रहना
— मानसिक थकान, दिमागी तौर पर अशांत बने रहना



Source link