minerals in Rajasthan: राजस्थान में 12 मिनरल्स की नीलामी की तैयारी


राजस्थान सरकार ने 12 मिनरल्स की नीलामी की तैयारी शुरु कर दी गई है। इनमें पोटाश के 3, बेसमेटल के 6, टंगस्टन का एक और निकल और प्लेटिनियम ग्रुप के दो ब्लॉक्स तैयार किए जा रहे हैं। यह ब्लॉक्स हाल ही में जियोलोजिकल सर्वे ऑफ इण्डिया द्वारा राज्य सरकार को सौंपी गई रिपोर्ट के आधार पर तैयार किए जा रहे हैं। रिपोर्ट के अनुसार बीकानेर संभाग के साथ ही अब चुरु, सवाई माधोपुर-करौली में पोटाश के भण्डार खोजे गए हैं। पोटाश के इन ब्लॉकों को कंपोजिट लाइसेंस के रुप में ऑक्शन किया जाएगा। इसमें संबंधित द्वारा एक्सप्लोरेशन किया जाएगा। अतिरिक्त मुख्य सचिव माइंस, पेट्रोलियम व एनर्जी डॉ. सुबोध अग्रवाल ने बताया कि प्रदेश में माइनर और मेजर खनिज की खोज, दोहन की विपुल संभावनाएं है, जिससे प्रदेश में राजस्व बढ़ोतरी के साथ ही नया निवेश और रोजगार के बेहतर अवसर विकसित हो सकते हैं। एसीएस माइंस डॉ. अग्रवाल ने अधिकारियों को एग्रेसिव रणनीति बनाने के निर्देश दिए ताकि प्रदेश खनिज खोज व खनन में अग्रणी प्रदेश बन सके। मिनरल एक्सप्लोरेशन कारपोरेशन के सीएमडी डॉ. रंजीत रथ ने विश्वास दिलाया कि एमईसीएल राजस्थान में राज्य सरकार के साथ मिलकर खनिज खोज खनन कार्य मे सहभागिता निभाएगा। उन्होंने त्रिपक्षीय एमओयू की चर्चा करते हुए बताया कि पोटाश के खोज कार्य में तेजी लाई जा रही है। डीएमजी केबी पण्डया ने बताया कि राज्य में लाइमस्टोन के ब्लॉक्स की नीलामी में तेजी लाई गई है और पिछले दिनों ही 6 ब्लॉक्स की नीलामी हो चुकी है और सात ब्लॉक्स की नीलामी की प्रक्रिया जारी है। बैठक में उपसचिव माइंस नीतू बारुपाल, जियोलोजिकल सर्वें ऑफ इंडिया के उपमहानिदेशक डॉ. संजय दास, निदेशक तकनीकी एसके कुलश्रेष्ठ, एमईसीएल के आरके जैन, जियोलोजिकल विभाग, हिन्दुस्तान कॉपर के सुभ्रता गुहा, डॉ. गोपाल राठी, विभाग के अनिल वर्मा, आलोक जैन, सूनील वर्मा आदि उपस्थित थे।



Source link