भारत की आर्थिक तरक्की देख बदला 'मूडीज' का मूड, 2023 के लिए आर्थिक विकास दर अनुमान बढ़ाया – News18

हाइलाइट्स

मूडीज ने भारत के ग्रोथ रेट का अनुमान 5.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है.
इससे पहले मूडीज ने भारत की साख को BAA3 रेटिंग पर बरकरार रखा था.
2023-24 की पहली तिमाही अप्रैल-जून में भारत की विकास दर 7.8 फीसदी रही है.

नई दिल्ली. भारत की जीडीपी ने सारे ग्लोबल इकोनॉमिक एक्सपर्ट्स के अनुमानों को पीछे छोड़ते हुए अप्रैल-जून में 4 तिमाहियों की सबसे तेज ग्रोथ दर्ज की है. इसके बाद इंटरनेशनल रेटिंग एजेंसी मूडीज इन्वेस्टर्स सर्विस ने मजबूत आर्थिक गति के चलते 2023 कैलेंडर वर्ष के लिए भारत की वृद्धि का अनुमान बढ़ाकर शुक्रवार को 6.7 प्रतिशत कर दिया.

मूडीज ने अपने ‘ग्लोबल मैक्रो आउटलुक’ में कहा, ‘‘ मजबूत सेवाओं के विस्तार तथा पूंजीगत व्यय ने भारत की दूसरी (अप्रैल-जून) तिमाही में एक साल पहले की तुलना में 7.8 प्रतिशत की वास्तविक जीडीपी वृद्धि को प्रेरित किया. इसलिए हमने भारत के लिए अपने 2023 कैलेंडर वर्ष के वृद्धि का अनुमान 5.5 प्रतिशत से बढ़ाकर 6.7 प्रतिशत कर दिया है.’’

ये भी पढ़ें- देश की 5वीं सबसे अमीर महिला, दान देने में भी आगे, फिर भी नहीं जानता कोई इनका नाम, संभाल रहीं पुश्तैनी कारोबार

रेटिंग एजेंसी ने जताया ये अनुमान
रेटिंग एजेंसी ने कहा कि दूसरी तिमाही का बेहतर प्रदर्शन 2023 में उच्च आधार प्रदान करता है. ‘‘हमने अपना 2024 का वृद्धि अनुमान 6.5 प्रतिशत से घटाकर 6.1 प्रतिशत कर दिया है.’’ वहीं, इससे पहले मूडीज ने स्टेबल आउटलुक के साथ भारत की साख को BAA3 रेटिंग पर बरकरार रखा था. इस रेटिंग एजेंसी का अनुमान है कि घरेलू मांग के दम पर भारत की आर्थिक वृद्धि दर अगले 2 साल तक G20 देशों की अर्थव्यवस्थाओं के मुकाबले ऊंचे स्तर पर बनी रहेगी.

राष्‍ट्रीय सांख्यिकी कार्यालय (NSO) ने कल जीडीपी के आंकड़े जारी किए थे. जिसमें 2023-24 की पहली तिमाही अप्रैल-जून (April-June) में विकास दर 7.8 फीसदी रही है. खास बात है कि यह 4 तिमाहियों में सबसे ज्‍यादा रही है. इससे पहले ज्‍यादातर अर्थशास्त्रियों ने जीडीपी ग्रोथ रेट 7.7 फीसदी तक रहने का अनुमान लगाया था, लेकिन वास्तविक आंकड़ा इस अनुमान से बेहतर रहा.

महंगाई के बीच आर्थिक विकास की इस बेहतर दर के पीछे उपभोक्‍ता खपत रही, जिससे मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर को जबरदस्‍त सपोर्ट मिला. अप्रैल-जून तिमाही में निर्माण क्षेत्र की ग्रोथ रेट 7.9 फीसदी रही. इसी तरह, मैन्‍युफैक्‍चरिंग सेक्‍टर की ग्रोथ 4.7 फीसदी रही, जो जनवरी-मार्च तिमाही में 4.5 फीसदी और पिछले साल अप्रैल-जून में 6.1 फीसदी थी.

(भाषा से इनपुट के साथ)

Tags: GDP growth, India’s GDP, Indian economy, Ministry of Finance

Source : hindi.news18.com