भारत नहीं, ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटरों को कॉन्ट्रैक्ट सबसे महंगा, पाकिस्तान… – News18

नई दिल्ली. वेस्टइंडीज के स्टार क्रिकेटर्स ने एक बार फिर सालाना कॉन्ट्रैक्ट का ऑफर ठुकरा दिया. हालांकि, ना तो कान्ट्रैक्ट ठुकराने वाले क्रिकेटरों ने और ना ही वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड ने इसकी वजह बताई. लेकिन माना जा रहा है कि वेस्टइंडीज क्रिकेट बोर्ड का एनुअल कॉन्ट्रैक्ट में ज्यादा बड़ी रकम नहीं मिलती. इस कारण ज्यादातर स्टार क्रिकेटर इस कॉन्ट्रैक्ट से नहीं बंधना चाहते. आइए जानते हैं कि आखिर वेस्टइंडीज के क्रिकेटर्स को एनुअल कॉन्ट्रैक्ट में कितने पैसे मिलते हैं. यह राशि दूसरे देशों के क्रिकेटरों को मिलने वाली राशि से कितनी कम या ज्यादा है. भारत या ऑस्ट्रेलिया के क्रिकेटरों को एनुअल कॉन्ट्रैक्ट में कितनी रकम मिलती है.

सबसे पहले वेस्टइंडीज के क्रिकेटरों को मिलने वाली सालाना अनुबंध राशि की बात कर लेते हैं. क्रिकइंफो एक रिपोर्ट के मुताबिक क्रिकेट वेस्टइंडीज (WI) के एक खिलाड़ी को 1.40 लाख से लेकर 3.00 लाख डॉलर तक का एनुअल कॉन्ट्रैक्ट दिया जाता है. यानी सालाना करीब 2.5 करोड़ रुपए का अनुबंध. मैच फीस इसके अतिरिक्त होती है. रिपोर्ट के मुताबिक वेस्टइंडीज के क्रिकेटर को एक टेस्ट मैच खेलने के लिए करीब 4.72 लाख, वनडे मैच के लिए 1.90 लाख और टी20 मैच के लिए 1.40 लाख रुपए फीस मिलती है.

भारतीय क्रिकेटर को तीन गुना मैच फीस
अगर हम भारतीय क्रिकेटरों को मिलने वाले सालाना अनुबंध से तुलना करें तो वेस्टइंडीज के क्रिकेटरों को एक तिहाई रकम ही मिलती है. भारतीय क्रिकेट बोर्ड (BCCI) अपने क्रिकेटरों को तीन या चार ग्रेड में कॉन्ट्रैक्ट देता है. इनमें टॉप टियर (A+ कैटेगरी ) में रहने वाले खिलाड़ियों को 7 करोड़ रुपए का अनुबंध दिया जाता है. मैच फीस की बात करें तो भारतीय क्रिकेटर को एक टेस्ट मैच के लिए 15 लाख, वनडे के लिए 8 लाख और टी20 मैच के लिए 4 लाख रुपए मिलते हैं. अगर कोई भारतीय क्रिकेटर साल में करीब 8-10 टेस्ट, 30 वनडे और 20 टी20 मैच खेले तो वह 11 करोड़ रुपए से ज्यादा कमा लेता है.

पैट कमिंस को 16 करोड़ का कॉन्ट्रैक्ट
ऑस्ट्रेलिया के प्रमुख क्रिकेटर्स को 12 से 16 करोड़ रुपए तक एनुअल कॉन्ट्रैक्ट मिलता है. फॉक्स स्पोर्ट्स के मुताबिक साल 2022 में पैट कमिंस को करीब 14 करोड़ रुपए का सालाना अनुबंध दिया गया था. इसके अलावा करीब 2 करोड़ रुपए का बोनस दिया गया. जोश हेजलवुड, डेविड वॉर्नर, मिचेल स्टार्क और स्टीव स्मिथ को करीब 10 से 12 करोड़ रुपए का कॉन्ट्रैक्ट मिला. मार्नस लैबुशेन और नाथन लायन को 8 से 10 करोड़ रुपए के बीच की अनुबंध राशि दी गई. क्रिकेटप्रेमी जानते हैं कि ऑस्ट्रेलिया के स्टार क्रिकेटर एशेज सीरीज या बड़े टूर्नामेंट से पहले आईपीएल या ऐसी अन्य टी20 लीग से हट जाते हैं. इसकी एक वजह उन्हें मिलने वाली बड़ी अनुबंध राशि भी है.

इंग्लैंड के क्रिकेटरों को मिलती है मोटी रकम
ऑस्ट्रेलिया की तरह इंग्लैंड के क्रिकेटरों को भी सालाना अनुबंध के तौर पर मोटी रकम मिलती है. द क्रिकेटर की रिपोर्ट के मुताबिक तीनों फॉर्मेट में खेलने वाले इंग्लिश क्रिकेटर को 1.125 मिलियन डॉलर यानी करीब 9.40 करोड़ रुपए मिलते हैं. अगर मैच फीस को को मिला दें तो साल में ज्यादातर मैच खेलने वाले क्रिकेटर को करीब 12 करोड़ रुपए तक मिल जाते हैं. न्यूजीलैंड के क्रिकेटर को करीब 3 करोड़ रुपए का सालाना अनुबंध मिलता है. मैच फीस इसके अतिरिक्त होती है.

पाकिस्तानी क्रिकेटरों को 2 करोड़ का करार
पाकिस्तान, श्रीलंका जैसे देशों में क्रिकेटर्स और क्रिकेट बोर्ड के बीच सालाना अनुबंध को लेकर विवाद होते रहते हैं. क्रिकइंफो की रिपोर्ट के मुताबिक पाकिस्तान के टॉप टियर वाले क्रिकेटरों को करीब 2.30 करोड़ रुपए का करार मिलता है. नए क्रिकेटरों को इससे कम राशि का अनुबंध दिया जाता है. श्रीलंका के प्रमुख क्रिकेटरों को 2.90 करोड़ रुपए तक का कॉन्ट्रैक्ट मिल जाता है.

अफगान क्रिकेटरों को सबसे कम पैसे
टेस्ट क्रिकेट खेलने वाले देशों में सबसे कम पैसे अफगानिस्तान के क्रिकेटरों को मिलते हैं. एक रिपोर्ट के मुताबिक अफगानिस्तान के क्रिकेटरों को 40 हजार डॉलर तक का यानी करीब 33 लाख रुपए तक का सालाना कॉन्ट्रैक्ट मिलता है. जिम्बाब्वे के क्रिकेटरों को 40 लाख से 90 लाख रुपए तक का सालाना कॉन्ट्रैक्ट मिलता है.

Tags: Australia, BCCI, Indian Cricket Team, Team india, West indies

Source : hindi.news18.com