हार को पचाना आसान नहीं लेकिन… निराशा से बाहर निकले रोहित, सुनाई आपबीती – News18

हाइलाइट्स

रोहित ने कहा कि उनका सपना विश्व कप जीतना था
हिटमैन वर्ल्ड कप में हार के दर्द को भुलाने ब्रेक पर चले गए थे
टीम इंडिया फाइनल से पहले लगातार 10 मैच जीत चुकी थी

नई दिल्ली. रोहित शर्मा को पता नहीं था कि विश्व कप फाइनल में मिली हार की निराशा से वह कभी उबर सकेंगे या नहीं. लेकिन अब प्रशंसकों के प्यार और समझदारी ने उन्हें एक बार फिर शिखर पर पहुंचने का प्रयास करने के लिए प्रेरित किया है. रोहित ने यह नहीं बताया कि वह किस शिखर की बात कर रहे हैं लेकिन समझा जाता है कि वह अगले साल अमेरिका और वेस्टइंडीज में होने वाले टी20 विश्व कप में भारत की कप्तानी के बारे में सोच रहे हैं.

फाइनल तक रोहित (Rohit Sharma) के लिए बतौर बल्लेबाज और कप्तान विश्व कप (World Cup) का सफर शानदार रहा लेकिन 19 नवंबर को फाइनल में आस्ट्रेलिया ने भारत को हराया. फाइनल की हार के बाद रोहित मैदान से निकले तो उनकी आंखें भरी हुई थी. वह इस दर्द को भुलाने के लिए ब्रेक पर इंग्लैंड चले गए थे. रोहित ने इंस्टाग्राम पर अपने फैन पेज पर लिखा ,‘पहले कुछ दिन तो मुझे समझ ही नहीं आया कि इससे कैसे उबरूंगा. मेरे परिवार और दोस्तों ने मेरा हौसला बनाये रखा. हार को पचाना आसान नहीं था लेकिन जिंदगी चलती रहती है और आगे बढ़ना आसान नहीं था.’उन्होंने टीम के शानदार प्रदर्शन को समझने और सराहने वाले प्रशंसकों की तारीफ की.

ऑस्ट्रेलिया की टीम में 2 उप कप्तान, पाकिस्तान को पटखनी देने की तैयारी, एक दिन पहले किया प्लेइंग XI का ऐलान

सूर्या भाई ने कहा- जैसे खेलते रहे हो वैसे ही खेलो, रिंकू सिंह ने पहली फिफ्टी जड़ने के बाद किया खुलासा

‘मैं भी दर्द से उबरता गया’
बकौल रोहित,‘लोग मेरे पास आकर कहते थे कि उन्हें टीम पर गर्व है. मुझे बहुत अच्छा लगता था. उनके साथ मैं भी दर्द से उबरता गया. मैंने सोचा कि आप यही तो सुनना चाहते हैं. लोग जब समझते हैं कि खिलाड़ियों पर क्या बीत रही होगी और वे अपनी हताशा या गुस्सा नहीं निकालते हैं तो यह हमारे लिए बहुत मायने रखता है. मेरे लिए तो इसके बहुत मायने हैं क्योंकि लोगों में गुस्सा नहीं था. जब भी मिले, उन्होंने प्यार ही बरसाया.’

‘फिर शिखर पर पहुंचने की कोशिश करनी है’
रोहित ने कहा ,‘इससे वापसी करने और नए सिरे से आगाज करने की प्रेरणा मिली. एक बार फिर शिखर पर पहुंचने की कोशिश करनी है. पूरे विश्व कप के दौरान हमें दर्शकों का जबर्दस्त समर्थन मिला. मैदान के भीतर भी और जो घरों में देख रहे थे, उनसे भी. मैं इसकी सराहना करता हूं. लेकिन जितना ज्यादा विश्व कप के बारे में सोचता हूं, दुख होता है कि हम जीत नहीं सके. मैं 50 ओवरों का विश्व कप देखकर बड़ा हुआ. मेरे लिए यह सबसे बड़ा इनाम है. 50 ओवरों का विश्व कप. हमने इसके लिए कितनी मेहनत की और नहीं जीत पाने पर निराशा तो होगी ही. कई बार हताशा भी होती है क्योंकि जिसके लिए मेहनत कर रहे थे , जिसका सपना देख रहे थे , वह नहीं मिला.’

Tags: Rohit sharma, Team india

Source : hindi.news18.com