मां-बाप के घर पर पड़ोसियों की तरह रहती है लड़की, बगीचे में बनाया अपना बसेरा – News18

भारत में बच्चे और माता-पिता एक दूसरे से कभी अलग नहीं हो सकते. बच्चे जब नौकरी करने लगते हैं तो चाहते हैं कि वो अपने पैरेंट्स को भी साथ ही रख लें. अगर वो मुमकिन नहीं होता, तो वो उसी शहर में नौकरी तलाश कर लेते हैं जहां माता-पिता रहते हैं. पर विदेशों में अलग ही कल्चर है. वहां पर बड़े होते ही बच्चे अपने माता-पिता से अलग हो जाते हैं. ये उनके अपने तौर-तरीके हैं, जिसे सही-गलत के पैमाने से नहीं आंका जा सकता. पर उसके बावजूद ऐसी व्यवस्था काफी अजीब लगती है. नीदरलैंड (Netherland girl live in tiny house) की एक लड़की के रहन-सहन के बारे में जब आप सुनेंगे तो हैरान होंगे क्योंकि वो पड़ोसियों की तरह अपने माता-पिता के घर पर रहती है.

इंसाइडर वेबसाइट की रिपोर्ट के अनुसार 24 साल की वीरले वेलधुइस (Veerle Veldhuis) अपने माता-पिता के घर पर रहती हैं, मगर उनके साथ नहीं. एक अलग, बेहद छोटे से घर (Girl tiny house video) में. दरअसल, वो ढाई सालों तक कॉलेज के हॉस्टल में थीं पर उन्हें लगा कि वहां उनकी मेंटल हेल्थ पर बुरा असर पड़ रहा है. इस वजह से उन्होंने तय किया कि वो अलग घर लेकर रहेंगी. पिछले साल वो छुट्टियां मनाने इंग्लैंड गई थीं जहां उन्होंने छोटे कॉटेज में रहने का आनंद उठाया और उन्हें लगा कि रहने के लिए ये भी अच्छा विकल्प है.



माता-पिता के घर में पड़ोसी की तरह रहती है
जब वो नीदरलैंड लौटीं तो एक अलग घर तलाशने लगीं. घर काफी महंगे थे. तभी उन्हें एक ऑनलाइन मूवेबल घर दिखा. यानी छोटा का कॉटेज जिसे टायरों से मूव किया जा सकता था. उसका दाम 1.6 लाख रुपये था. उन्होंने माता-पिता से आर्थिक मदद लेकर उस कॉटेज को खरीद लिया. मगर उन्हें पता था कि सरकार की ओर से इस तरह के छोटे घरों पर सख्त कानून लागू होते हैं क्योंकि वो सरकारी जमीन पर होते हैं. उन्होंने तय किया कि वो उसे अपने माता-पिता की प्रॉपर्टी, यानी उनके घर के बगीचे में ले जाएंगी. बस इस तरह वो माता-पिता के घर पर ही, पड़ोसियों की तरह रहने लगीं. अब वो उसी घर के बगीचे में रहती हैं, पर इस घर को अपने अनुसार अलग तरह से डिजाइन किया है जिसके लिए उन्होंने अपनी जेब से करीब 90 हजार रुपये खर्च किए और उसे पूरी तरह रेनोवेट करवाया है.

11 महीनों से इस तरह रह रही लड़की
उनके घर में बिस्तर, किचेन आदि जैसी सब चीजें हैं, बस बाथरूम नहीं है. इस वजह से वो बाथरूम के लिए माता-पिता के घर का बाथरूम ही इस्तेमाल करती हैं. इस तरह रहते हुए उन्हें 11 महीने हो चुके हैं. अब उन्हें रेंट नहीं देना पड़ता है. उनके पास अपनी स्पेस है और उनकी मेंटल हेल्थ भी सुधर रही है. उन्हें हर वक्त इस बात की चिंता नहीं करनी पड़ती है कि उनके आसपास कौन है. फिलहाल वो एक केयर फार्म में नौकरी करती हैं जहां विकलांग लोग, किसानों के साथ काम कर पैसे कमाते हैं. अगले साल वीरले का कॉलेज भी खत्म हो जाएगा. इंस्टाग्राम पर उन्हें 34 हजार से ज्यादा लोग फॉलो करते हैं.

Tags: Ajab Gajab news, Trending news, Weird news

Source : hindi.news18.com