आ गया GPS का बाप! न इधर ना उधर… अपने देश का 'नाविक' बताएगा 100% सही रास्ता – News18

अरशद खान/ देहरादून:उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में स्थित जीबीओ सर्वे ऑफ इंडिया के म्यूजियम में यूं तो बहुत सी प्राचीन साइंटिफिक चीजें और मॉडल रखे हुए हैं, लेकिन यहां पर एक मॉडल ऐसा भी है, जो यह बताता है कि अब भारत भी साइंस की दुनिया में बहुत तरक्की कर चुका है. जी हां, भारत के स्वदेशी नाविक जीपीएस सिस्टम का उपयोग वैसे तो सर्वे ऑफ इंडिया कर रहा है और तमाम बड़ी-बड़ी सिविल कंपनियों को डेटा भी दे रहा है, लेकिन आम जनता कैसे देश के स्वदेशी जीपीएस सिस्टम का उपयोग कर सकती है चलिए हम बताते हैं.

अभी आपको नाविक जीपीएस सिस्टम का उपयोग करने के लिए सब्सक्रिप्शन लेना होता है, जिसके लिए मामूली रकम आपको चुकानी पड़ती है. सब्सक्रिप्शन लेने के बाद आप देश के स्वदेशी जीपीएस सिस्टम नाविक का उपयोग कर सकते हैं. कयास लगाए जा रहे हैं कि कुछ समय बाद पूरे देश भर में इसी नाविक सिस्टम का उपयोग जनता कर सकेगी.

इसमें क्या है खास?
लोकल 18 से बातचीत में सर्वे ऑफ इंडिया म्यूजियम के इंचार्ज अरुण कुमार कहते हैं कि वह समय दूर नहीं जब देश के लोग अपने स्वदेशी नाविक (NavIC ) जीपीएस सिस्टम का उपयोग करेंगे. सैटेलाइट मैपिंग में जिन देशों ने सफलता हासिल की है, उन्हें एक ऑर्गेनाइजेशन जीएनएसएस (ग्लोबल नेवीगेशन सेटेलाइट सिस्टम) का नाम दिया गया है, जिनमें रूस, अमेरिका के साथ भारत भी शामिल है. भारत के जीपीएस सिस्टम का नाम नाविक है. अभी भारत में जीपीएस का इस्तेमाल हो रहा है लेकिन एक-दो साल बाद हम नाविक पर स्विच हो जाएंगे. भारत के अभी तक 7 नाविक सेटेलाइट हैं, जो जीपीएस के 24 सेटेलाइट के बराबर एक्यूरेसी देंगे.

आम आदमी ऐसे करें इस्तेमाल
आम आदमी जिनके पास सिंगल जीपीएस सिस्टम है, उन्हें प्रॉपर एक्यूरेसी मिले. इसके लिए सर्वे ऑफ इंडिया ने पूरे देशभर में 1000 परमानेंट जीपीएस सिस्टम इंस्टॉल किए हैं. इन्हें सीओआरएस कहा जाता है (कंटीन्यूअस ऑपरेटिंग रेफरेंस सिस्टम) अपने देश के स्वदेशी नाविक जीपीएस सिस्टम को इस्तेमाल करने के लिए अभी फिलहाल आपको रजिस्ट्रेशन करना पड़ता है, जिसको आप https/cors.surveyofindia.gov.in/registration.php पर जाकर कर सकते हैं. रजिस्ट्रेशन फीस नॉमिनल रखी गई है और कुछ समय बाद आप अपने मोबाइल फोन पर भी इस स्वदेशी नाविक सिस्टम का लाभ ले सकेंगे.

Tags: GPS, Local18

Source : hindi.news18.com