प्रदूषण से तड़प रहा यह देश, कभी भरे रहते थे टूरिस्ट, अब सांस के लिए तरसे लोग – News18

थाईलैंड का चियांग माई शहर कभी टूरिस्टों के भरमार के लिए जाना जाता था, अब आलम ये है कि थाई लोग सांस लेने के लिए तरस रहे हैं. पर्यटन स्थल के लिए फेमस चियांग माई, शुक्रवार की सुबह दुनिया के सबसे प्रदूषित शहरों की रैंकिग में टॉप पर था. वायु निगरानी वेबसाइट IQAir के अनुसार, कैंसर पैदा करने वाले माइक्रोपार्टिकल्स, जो सांस के जरिए ब्लड में जाते हैं और जिनको विश्व स्वास्थ्य संगठन ने जिनको ‘बहुत ही अस्वास्थ्यकर’ घोषित किया है, वे यहां कि हवा में 35 गुना से भी अधिक पाए गए.

एफपी की रिपोर्ट के अनुसार एक 62 वर्षीय संतरा विक्रेता ने बताया कि, ‘उसे अब हमेशा मास्क पहनना पड़ रहा है. अपने मास्क को दिखाते हुए कहा कि मेरे पास बस यही मास्क है जो मैंने कोविड में लिया था. भी हाल में थाईलैंड के पूर्व प्रधानमंत्री थाकसिन शिनावात्रा, जो हाल ही में 15 साल के स्व-निर्वासन के बाद भ्रष्टाचार और सत्ता के दुरुपयोग के लिए जेल से बाहर आए थे, उन्होंने भेष बदल कर शहर की यात्रा की और लोगों की हाल चाल जाना.

क्या है महाराष्ट्र का खिचड़ी स्कैम? ED ने किस नेता के खिलाफ जारी किया चार्ज-शीट, मामला है चौकाने वाला

इस साल की शुरुआत से ही पूर्व पीएम थाकसिन के गृहनगर चियांग माई में प्रदूषण से तड़प रहा है. सबसे बड़ा कारण खेती की जमीन को साफ करने के लिए फसलें जलाना, जंगल की आग और घरों से निकलने वाले धुएं, भी इस समस्या के बड़े जड़ हैं.

देश के पूर्व प्रधानमंत्री शनिवार को भी दौरे पर आने वाले हैं. लेकिन चियांग माई के संतरे विक्रेता को कोई मदद की उम्मीद नहीं है. उन्होंने बताया कि, ‘मुझे हर साल अपने स्वास्थ्य की जांच करानी पड़ती है, खासकर सांस संबंधी बीमारियों का.’

एक सरकारी एजेंसी के इस महीने के रिपोर्ट के अनुसार, सरकार को इस समस्या का निदान जल्द से जल्द करने की जरूरत है. मालूम हो कि पिछले साल कम से कम 1 करोड़ लोगों को प्रदूषण से संबंधित स्वास्थ्य समस्याओं से जूझ रहे थे. एक 50 साल के नागरिक ने बताया कि कि, ‘कुछ सालों से यहां पर प्रदूषण अधिक रहता है, खासकर साल के इस समय में. हम इसके बारे में कुछ नहीं कर सकते क्योंकि यह हमेशा उच्च स्तर पर रहता है.’

एक नागरिक ने बताया कि यह शहर का ऐसा जगह है, जो पहाड़ियों और जहरीले धुएं के बीच फंसा में फंसा हुआ. इससे यहां की स्थिति और भी बदतर बन जाती है, लेकिन वहां रहने वाले लोगों की स्वास्थ्य की समस्या काफी चिंता जनक बनी हुई है. लोगों ने कहा कि, ‘सरकार से हमें हदद की उम्मीद नहीं है, हमें खुद की खुद ही मदद करने की ज़रूरत है.’

लोगों को प्रदूषण की आदत सी बन गई है, धुंध के बावजूद शुक्रवार को चियांग माई में सड़कें पर्यटकों से भरी हुई थीं, जो धुंध से बेपरवाह लग रहे थे. एक 32 वर्षीय चीनी पर्यटक एंडी ने कहा, ‘मैं प्रदूषण से नहीं डरता, उनके देश में इससे से भी ज्यदा समस्या है. मैं सिर्फ शहर का आनंद ले रहा हूं, क्योंकि यह बहुत अच्छा है.’

Tags: Air pollution, Thailand, Tourism

Source : hindi.news18.com