पारस गुट को बड़ा झटका दे सकते हैं चिराग पासवान, टच में हैं LJP के 2 सांसद – News18

हाइलाइट्स

चिराग पासवान के संपर्क में पशुपति कुमार पारस गुट के दो सांसद.
महागठबंधन में पशुपति कुमार पारस को नहीं मिल पा रही तरजीह.
लोजपा सांसदों की चिराग पासवान खेमे में आने की इच्छा की खबरें.

पटना. लोक जनशक्ति पार्टी (पारस) यानी RLJP की पटना में आज महत्वपूर्ण बैठक आयोजित है. यह बैठक पशुपति पारस की अध्यक्षता में होगी और इसमें पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के शामिल होने की बात कही जा रही है. बताया जा रहा है कि बैठक में सर्वसम्मति से फैसला लिया जाएगा कि लोक सभा का चुनाव पार्टी अकेले लड़ेगी या फिर महागठबंधन के साथ. बताया जा रहा है कि इसमें यह भी फैसला हो जाएगा कि चिराग पासवान के खिलाफ हाजीपुर से पशुपति कुमार पारस चुनाव अकेले लड़ेंगे या फिर महागठबंधन के साथ. वहीं, इस बीच पारस गुट में बिखराव की खबरें भी साथ-साथ ही आ रही हैं. दरअसल, मंगलवार को दिल्ली में हुई पार्टी की बैठक में प्रिंस राज और चंदन सिंह जैसे सांसद शामिल नहीं हुए थे. तभी से ये अटकलें लगाई जा रही हैं कि ये अपने भविष्य को लेकर चिंतित हैं और विकल्प की तलाश में हैं.

बताया जा रहा है कि महागठबंधन में पशुपति पारस को ज्यादा भाव नहीं मिल रहा है. यही कारण है कि पारस गुट की आज की बैठक अब मंथन में बदल गई है. ऐसे में पारस को महागठबंधन की ओर से भी तरजीह नहीं मिलते देख एलजेपी सांसद चंदन सिंह ( सूरज भान सिंह के भाई) अपने राजनीतिक भविष्य की तलाश में जुटे हैं.

बाहुबली सांसद राजद के संपर्क में
बताया जा रहा है कि सूरजभान सिंह लगातार आरजेडी के संपर्क में हैं और अगर पशुपति पारस को महागठबंधन में तरजीह नहीं मिलती है तो सूरजभान आरजेडी के साथ जाने की तैयारी कर सकते हैं. बता दें कि पशुपति पारस को जब एनडीए से बाहर का रास्ता दिखाने के संकेत मिल रहे थे, तब सूरजभान सिंह अपने भाई चंदन सिंह को बीजेपी के साथ लाने की पूरी कोशिश भी किये थे. वो चाहते हैं कि बीजेपी से टिकट मिल जाय, लेकिन उसमे चिराग आड़े आ रहे हैं.

चिराग गुट में शामिल होना चाहते हैं सांसद
यहां यह भी बता दें कि लोकसभा चुनाव को लेकर एनडीए में सीट बंटवारे में बिहार में पशुपति पारस को बड़ा झटका लग चुका है. उन्हें एक भी लोकसभा सीट नहीं मिली. इतना ही नहीं पशुपति के भतीजे और चाचा की अदावत के बीच चिराग पासवान को 5 लोकसभा की सीटें मिल चुकी हैं. इन सबके बीच वैशाली सांसद वीणा देवी और खगड़िया सांसद महबूब अली कैसर भी पशुपति पारस से अलग होकर चिराग के साथ खड़े नजर आ रहे हैं.

पारस का इस्तीफा पर सहानुभूति नहीं
गौरतलब है कि मंगलवार को पशुपति पारस ने केंद्रीय मंत्री पद से इस्तीफा दिया तो उन्हें एक और झटका लगने के संकेत दिखे. इस बार पशुपति के दो और सांसद भी उनसे किनारा करते दिखे हैं. सूरजभान की पत्नी वीणा देवी ने वर्ष 2009 में नवादा से चुनाव लड़ा था, वहीं 2019 में चंदन सिंह ने जीत हासिल की थी. ऐसे में सूरजभान का पशुपति पारस के साथ मंच पर नहीं होना उसी का संकेत माना जा रहा है.

चिराग पासवान के टच में प्रिंस राज
दूसरी ओर समस्तीपुर से वर्तमान में सांसद प्रिंस पासवान हैं. लेकिन, अब यह सीट चिराग पासवान के खाते में चली गई है. इस बीच खबर है कि प्रिंस पासवान भी चिराग पासवान से समझौता करने की तैयारी में हैं. बताया जा रहा है कि इससे चिराग का उद्देश्य भी सधता है. वह अपने चाचा पशुपति को पूरी तरह से कमजोर कर देंगे और प्रिंस का चिराग संग आना से यह पशुपति को दोहरा झटका होगा.

Tags: Bihar News, Bihar politics, Chirag Paswan, Loksabha Elections, Pashupati Kumar Paras

Source : hindi.news18.com