सपा ने अब तक उतारे 44 प्रत्याशी, पत्नी डिंपल समेत इतनी महिलाओं को मिला टिकट – News18

हाइलाइट्स

समाजवादी पार्टी ने 2024 लोकसभा चुनाव के लिए अब तक कुल 44 प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिए हैं
समाजवादी पार्टी ने अब तक जो लिस्ट जारी किए हैं उसमें महिलाओं की भागीदारी उस हिसाब से नहीं दिख रही

लखनऊ. महिला सशक्तिकरण और आधी आबादी की बात करने वाली समाजवादी पार्टी ने 2024 लोकसभा चुनाव के लिए अब तक कुल 44 प्रत्याशियों के नाम घोषित कर दिए हैं. लेकिन, अभी भी उत्तर प्रदेश में 17 उम्मीदवारों की लिस्ट समाजवादी पार्टी को जारी करनी बाकी है. समाजवादी पार्टी ने अब तक जो लिस्ट जारी किए हैं उसमें महिलाओं की भागीदारी उस हिसाब से नहीं दिख रही है. आधी आबादी की बात करने वाली समाजवादी पार्टी ने अब तक 6 महिलाओं को अपनी प्रत्याशियों की लिस्ट में जगह दी है.

समाजवादी पार्टी चाहती है कि ज्यादातर महिला वोटर उसके उम्मीदवारों को वोट करें और उसके उम्मीदवारों को सांसद बनाएं. लेकिन जब बात आती है पार्टी से टिकट देने की, तब यही पार्टी महिलाओं को नजरअंदाज कर रही है और केवल जिताऊ कैंडिडेट को ही चुनावी मैदान में उतार रही है. अब तक समाजवादी पार्टी ने जिन 44 प्रत्याशियों को चुनावी मैदान में उतारा है. उनमें से केवल 6 महिला उम्मीदवार हैं. गोरखपुर से काजल निषाद, गोंडा से श्रेया वर्मा, उन्नाव से अनु टंडन, हरदोई से उषा वर्मा, कैराना से इकरा हसन और मैनपुरी से डिंपल यादव को उम्मीदवार बनाया गया है. ऐसे में कई एक्सपर्ट समाजवादी पार्टी के मंशा पर सवाल खड़ा कर रहे हैं. एक्सपर्ट्स का कहना है कि हर कोई राजनीति में महिलाओं को भागीदार बनना चाहता है, लेकिन, जब समय आता है टिकट देने का ऐसे समय में जिताऊ कैंडिडेट ढूंढने लगते हैं.

यह भी सच है कि जब यादव परिवार को अपने विरासत बचाने की चिंता सताती है. तो ऐसे में घर की महिला यानी स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव की बड़ी बहू डिंपल यादव चुनावी मैदान में उतरती है. मैनपुरी में स्वर्गीय मुलायम सिंह यादव को लोग ‘दद्दा’ बोलकर पुकारते थे. अब ‘दद्दा’ की विरासत को बचाने की जिम्मेदारी घर की बड़ी बहू ने उठा ली है. यही नहीं डिंपल यादव के साथ उनकी बेटी अदिति यादव भी चुनाव प्रचार में देखी जा रही है. पहले हमने अदिति यादव को सोशल मीडिया पर पोस्ट शेयर करते हुए देखा है. लेकिन, इस बार वह अपनी मां के चुनावी क्षेत्र में समाजवादी पार्टी की महिला कार्यकर्ताओं के साथ प्रचार भी कर रही हैं. तो ऐसे में सवाल उठता है जब घर की विरासत को बचाने की बात हो या फिर घर चलाने की बात हो, महिलाएं हर जगह आगे बढ़कर अपना काम कर रही हैं तो ऐसे में समाजवादी पार्टी महिलाओं पर भरोसा क्यों नहीं दिखा रही है और क्यों अब तक केवल 6 महिलाओं को उम्मीदवार बनाया गया है? सवाल उठता है कि क्या आगे यानी बाकी 17 सीटों में महिलाओं को भागीदार बनाया जाएगा.

Tags: Loksabha Election 2024, Loksabha Elections, Lucknow news

Source : hindi.news18.com