बचपन का खिलौना देख ताजा हो जाएंगी स्कूल की यादें, बच्चों के बीच आज भी है क्रेज – News18

आदित्य आनंद/गोड्डा. बांस और बैलून से बनी हुई बांसुरी का क्रेज इन दिनों गोड्डा में खूब देखने को मिल रहा है. जहां आजकल बच्चे मोबाइल फोन की ओर आकर्षित होते हैं. मोबाइल गेम पब जी और फ्री फायर खेलते हैं. वहीं ग्रामीण या कस्बाई इलाकों में आज भी बैलून वाली बांसुरी का क्रेज देखने को मिलता है. झारखंड के गोड्डा में ऐसी बांसुरी बच्चे खूब पसंद कर रहे हैं.

इस बांसुरी की खासियत यह है कि इसे छोटे से छोटे बच्चे भी आसानी से बजा सकते हैं. बांसुरी से निकलने वाली मधुर धुन बच्चों के साथ-साथ बड़ों को भी आकर्षित करती है. तंग गलियों या मोहल्लों में इस बांसुरी को बेचने के लिए जब बांसुरी वाला अपनी धुन छेड़ता है, तो बच्चों की भीड़ लग जाती है.

बांसुरी बेचने वाले कृष्णा साह ने बताया कि उनके पास दो प्रकार की बांसुरी मिलती है. सामान्य बांसुरी जिसे मुंह से फूंक मारकर बजाया जाता है. इसकी कीमत 20 रुपये है. वहीं दूसरी बांसुरी बजाना बिल्कुल ही आसान है. इसमें गुब्बारा लगा है, जिसमें फूंक मारने के साथ ही गुब्बारा फूलने लगता है. इसके बाद गुब्बारे की हवा जैसे-जैसे निकलती है, बांसुरी से अलग तरह की आवाज आती है. इसका दाम 10 रुपये है. कृष्ण ने बताया कि वह ये बांसुरी बिहपुर से खरीद कर लाता है और गोड्डा के बाजारों व गलियों में घूम-घूम कर बेचता है. बच्चों के लिए बांसुरी खरीदने आई माही कुमारी ने बताया कि इस प्रकार का खिलौना बच्चों को देने में कोई बुराई नहीं है.

Tags: Godda news, Local18

Source : hindi.news18.com