‘लगता है पहला वोट डालने से पहले …’, केजरीवाल के वकील ने कोर्ट में क्यों कहा? – News18

नई दिल्ली. अरविंद केजरीवाल के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने राउज एवेन्यू कोर्ट में बहस शुरू की और ईडी की रिमांड का विरोध किया. सिंघवी ने कहा कि रिमांड यूं ही नहीं मिल जाती, इसके लिए कोर्ट को संतुष्ट करना पड़ता है. सिंघवी ने कहा कि भारत के इतिहास में पहली बार किसी मौजूदा मुख्यमंत्री को गिरफ्तार किया गया है. उनकी पार्टी के चार नेताओं को पहले ही गिरफ्तार किया गया है. ऐसा लगता है जैसे पहला वोट डालने से पहले ही आपको नतीजे पता चल गए हों. सिंघवी ने कहा कि ईडी साबित करे कि आखिर केजरीवाल की गिरफ्तारी की जरूरत क्यों है?

अरविंद केजरीवाल के वकील अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि अन्य कानूनों के विपरीत, मैं पहले से ही अपराध का दोषी हूं, जमानत के प्रावधानों को भी इतना सख्त कर दिया गया है. सिंघवी ने कहा कि गिरफ्तारी की क्या जरूरत है? ईडी साबित करे कि आखिर केजरीवाल की गिरफ्तारी की जरूरत क्यों है? सिंघवी ने कहा कि ईडी के पास गिरफ्तारी का अधिकार है, तो इसका मतलब ये नहीं कि वैसे ही इस अधिकार का इस्तेमाल वो करेंगे.

सिंघवी ने कहा कि ईडी द्वारा लगातार वही 3-4 नाम उछाले जा रहे हैं. सभी मामलों में पैटर्न बिल्कुल एक जैसा है. सिंघवी ने कहा कि संपूर्ण रिमांड आवेदन गिरफ्तारी नोट की कॉपी है. मार्च 2024 में केजरीवाल को गिरफ्तार करने का प्रदर्शन क्या है? मैं समझता हूं कि आपको तत्काल प्रकृति की किसी चीज की जरूरत है. सिंघवी ने कहा कि गिरफ्तारी का आधार क्या है? गवाहों के बयान? राजू का बयान दर्ज है कि हमें केजरीवाल  की हिरासत की जरूरत नहीं है.

सिंघवी ने कहा कि गवाह सबसे बदकिस्मत दोस्त हो सकता है, जिसने अपनी आजादी के लिए सौदा किया हो. यह पहली बार है जब किसी राजनीतिक पार्टी के टॉप नेताओं की गिरफ्तारी हुई है और सिटिंग मुख्यमंत्री की गिरफ्तारी हुई हो. सिंघवी ने कहा कि स्वतंत्र और निष्पक्ष चुनाव को लेकर सुप्रीम कोर्ट के फैसले हैं. चुनाव के लिए नॉन लेवल प्लेइंग फील्ड बनाया जा रहा है. आपके पास कथित अपराध की रूपरेखा है, अरविंद केजरीवाल को गिरफ्तार करने की कोई जरूरत नहीं है. सिंघवी ने कहा कि ईडी का अब नया तरीका है. पहले  गिरफ्तार करो, फिर उनको सरकारी गवाह बनाकर मनमाफिक बयान हासिल करो. एसकी एवज मैं उन्हें जमामत मिल जाती है.

सिंघवी ने कहा कि सभी बड़े नेता जेल में हैं. चुनाव नजदीक है. इससे संविधान की मूल संरचना प्रभावित होती है. इसका असर लोकतंत्र पर पड़ता है. लोकतंत्र में समान अवसर होने चाहिए. केजरीवाल को गिरफ़्तार करने की कोई जरूरत नहीं है. लोकतंत्र संविधान की बुनियाद है. आज चुनाव से पहले गिरफ्तार कर आम आदमी पार्टी को जानबूझकर कर दूसरी पार्टियों के मुकाबले कमतर करने की कोशिश हो रही है.

Tags: AAP, Arvind kejriwal, Delhi liquor scam, Enforcement directorate

Source : hindi.news18.com