होली पर चीन को 10 हजार करोड़ का नुकसान, कितने रुपये की मनाई जाएगी होली? – News18

हाइलाइट्स

देश भर के व्यापार में लगभग 50 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है.
इस बार देशभर में 50 हज़ार करोड़ से ज़्यादा का व्यापार हुआ है.
दिल्ली में ही 5 हज़ार करोड़ रुपये के व्यापार की संभावना है.

नई दिल्‍ली. पूरा देश अगले सप्‍ताह के पहले ही दिन मनाए जाने वाले होली के त्‍योहार की तैयारियों में लगा है. इस बार की होली कई मायनों में बहुत खास रहने वाली है. कहा जा रहा है कि इस बार पूरे देश में देसी होली मनाई जाएगी. होली में इस बार चीनी सामान पूरी तरह बाजार गायब हो गए हैं और देश में ही तैयार हुए रंग-गुलाल, पिचकारी आदि सामानों की बिक्री की जा रही है. लोगों ने भी होली पर जमकर पैसा खर्च करने की तैयारी कर ली है.

कन्फ़ेडरेशन ऑफ़ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ( कैट) के राष्ट्रीय महामंत्री प्रवीण खंडेलवाल का कहना है कि होली के त्‍योहार से दिल्ली सहित देश भर के व्यापारियों में एक नई उमंग और उत्साह का संचार हुआ है और व्यापार के भविष्य को लेकर एक बार फिर नई आशा जगी है. पिछले वर्ष के मुकाबले इस वर्ष होली के त्योहारी सीजन में देश भर के व्यापार में लगभग 50 प्रतिशत की वृद्धि का अनुमान है. अनुमान है कि इस बार देशभर में 50 हज़ार करोड़ से ज़्यादा का व्यापार हुआ है. अकेले दिल्ली में ही 5 हज़ार करोड़ रुपये के व्यापार की संभावना है.

ये भी पढ़ें – IIT से पढ़कर निकला और बेचने लगा चिकन बिरयानी, अब 40 शहरों से आती है डिमांड, रेवेन्यू 300 करोड़ के पार

चीन से आता था 10 हजार करोड़ का सामान
खंडेलवाल ने कहा, पिछले वर्षों की तरह चीनी सामान का न केवल व्यापारियों ने बल्कि आम लोगों ने भी पूर्ण बहिष्कार कर दिया है. होली से जुड़े सामान का देश में आयात लगभग 10 हजार करोड़ का होता है जो इस बार बिल्कुल न के बराबर रहा है. इस बार होली की त्योहारी बिक्री में चीन के बने हुए सामान का व्यापारियों एवं ग्राहकों ने बहिष्कार किया और केवल भारत में ही निर्मित हर्बल रंग एवं गुलाल, पिचकारी, ग़ुब्बारे, चंदन , पूजा सामग्री, परिधान सहित अन्य सामानों की जमकर बिक्री हो रही है. वहीं मिठाइयां, ड्राई फ्रूट, गिफ्ट आइटम्स, फूल एवं फल, कपड़े, फ़र्निशिंग फैब्रिक, किराना, एफएमसीजी प्रोडक्ट, कंज्यूमर ड्युरेबल्स सहित अन्य उत्पादों की भी ज़बरदस्त मांग दिख रही है.

होटल उद्योग को भी फायदा
खंडेलवाल ने बताया कि इस साल दिल्ली सहित देशभर में बड़े पैमाने पर होली समारोहों का आयोजन हो रहा है, जिसके चलते बैंक्वेट हाल, फार्म हाउस, होटलों, रेस्टोरेंट एवं सार्वजनिक पार्क में लोग जुटेंगे. दिल्ली में ही छोटे बड़े मिलाकर 3 हज़ार से ज़्यादा होली मिलन समारोह आयोजित हो रहे हैं. होली का पर्व नजदीक आते ही दिल्ली के सभी थोक एवं खुदरा बाजार पूरी तरह सजे हुए हैं.

ये भी पढ़ें – कहां से चला, कहां पहुंच गया सोना, जिसने 10000 का भी खरीदा, अब बैठा रुपयों के ढेर पर, हो गए 84 लाख

दिल्‍ली में 24 और 25 को त्‍योहार
खंडेलवाल ने कहा कि दिल्ली में 24 मार्च को होली जलाई जाएगी जबकि रंगों का पर्व 25 मार्च को मनाया जाएगा. होली के रंग में बाजार भी रंगे हुए नजर आ रहे हैं. रंग बिरंगे गुलाल और पिचकारी के अलावा गुजिया के हार और मेवा से दुकानें सजी हुई हैं. इस बार हर्बल रंग, अबीर और गुलाल की सर्वाधिक माँग है, जबकि गुब्‍बारे और पिचकारी की मांग बीते कुछ साल के मुकाबले काफी ज्‍यादा हो रही है. प्रेशर वाली पिचकारी 100 रुपये से 350 रुपये तक की उपलब्ध है. टैंक के रूप में पिचकारी 100 रुपये से लेकर 400 रुपये की कीमत में उपलब्ध है. फैंसी पाइप की भी बाजार में धूम मची है.

Tags: Boycott chinese products, Business news in hindi, Holi, Holi festival

Source : hindi.news18.com