यूपी में यहां प्राचीन नदियों को पुनर्जीवित करने की चल रही कवायद – News18

आदित्य कृष्ण/अमेठी: नदियां हमारे पर्यावरण का महत्वपूर्ण हिस्सा हैं.  ऐसे में जीवन दायिनी गंगा नदी के संरक्षण के साथ उनकी सहायक नदियों को भी बचाने के मुहिम उत्तर प्रदेश के अमेठी में की जाएगी. जिले में नदियों को पुनर्जीवित करने की मुहिम चलाई जाएगी. अलग-अलग थीम पर इसके लिए काम किया जाएगा. आपको बता दें कि इस पूरी पहल से नदियों के अस्तित्व पर छा रहा संकट दूर होगा और उससे पर्यटन विकास में मजबूती भी मिल सकेगी.

अमेठी जिले में अलग-अलग क्षेत्र से प्राचीन नदियां निकलती हैं, जिनके अस्तित्व पर लंबे समय से संकट था. इन प्राचीन नदियों में मालती नदी, उज्जैनी नदी के अलावा गोमती नदी शामिल हैं. इन नदियों के विकास के लिए अब नमामि गंगे अभियान योजना में काम किया जाएगा. करीब 10 थीम पर इस पूरे कार्य को किया  जाएगा और नदियों को पुनर्जीवित करने की मुहिम चलाई जाएगी. नदियों के बुनियादी ढांचे का विकास किया जाएगा. इसके साथ ही जिले में संचालित उद्योग कारखाने से निकलने वाले  अपशिष्ट पदार्थों को नदियों में प्रवाहित करने से रोका जाएगा. इसके साथ ही नदियों के घाट को और अन्य कार्यों को भी पूरा कर उसे पर्यटन की दृष्टि से संवारा जाएगा.

नदियों को करना होगा पुनर्जीवित

इतिहास के जानकार और सेवानिवृत्त वरिष्ठ प्रवक्ता सूर्यपाल यादव बताते हैं कि नदियां हमारे लिए जीवनदायिनी होती हैं. पहले नदियों से ही लोग धर्म-कर्म, पूजा-पाठ और जल संचयन का काम करते थे. लेकिन नदियों का अस्तित्व अब मिटने लगा है. आज अगर नदियों का विकास हो रहा है तो यह बहुत ही अच्छी पहल है. इससे हमारे पर्यटन को मजबूती मिलेगी.

पर्यटन को मिलेगा बढ़ावा

वहीं प्रभागीय वनाधिकारी ने बताया कि नदियों का 10 थीम पर विकास प्रस्तावित है. इसके लिए नमामि गंगे अभियान योजना के अंतर्गत इस काम को पूरा किया जाएगा. इससे पर्यटन को भी बढ़ावा मिलेगा और नदियों का भी पुनर्जीवित होंगी.

Tags: Hindi news, Local18, UP news

Source : hindi.news18.com