रेप केस मैनेज करती है बिहार की पुलिस? NHRC ने नीतीश सरकार और DGP को भेजा नोटिस – News18

हाइलाइट्स

राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने नीतीश सरकार को भेजा नोटिस.
नाबालिग से यौन उत्पीड़न के एक मामले में स्वत: संज्ञान लिया.
बिहार सरकार और बिहार डीजीपी को NHRC ने भेजा नोटिस.

पटना/दरभंगा. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने नाबालिग से यौन उत्पीड़न के एक मामले में नीतीश सरकार और डीजीपी को नोटिस भेजा है. इस मामले में दरभंगा में 13 साल की दुष्कर्म पीड़िता की मौत के बाद ग्राम पंचायत ने 1.25 लख रुपए देकर कैसे केस को मैनेज करवाने का प्रयास किया था.यह मामला राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पास पहुंच गया था. पुलिस ने अभी तक इस पर कोई एक्शन नहीं लिया है और जांच भी नहीं हो सकी है.

बता दें कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने नाबालिग लड़की के यौन उत्पूर्ण के मामले में पुलिस एक्शन में हुई कथित देरी की रिपोर्ट पर नीतीश सरकार और बिहार के पुलिस प्रमुख को नोटिस भेजा है. आयोग द्वारा मंगलवार को एक बयान में यह कहा गया है कि सरकार और डीजीपी को 6 सप्ताह के भीतर विस्तृत रिपोर्ट देनी होगी. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग यानी एनएचआरसी ने  मीडिया रिपोर्ट पर इस मामले का स्वत संज्ञान लिया और उसके बाद इस तरह का कदम उठाया गया है.

रेप के बाद नाबालिग की हो गई थी मौत
बता दें कि मीडिया रिपोर्ट में दावा किया गया था कि बिहार के दरभंगा जिले में 13 साल की नाबालिग पीड़िता की मौत के बाद ग्राम पंचायत ने 1.25 लाख रुपए लेकर केस को मैनेज करवाने की कोशिश की. पुलिस ने अभी तक इस पर कोई कार्रवाई नहीं की है और जांच तक नहीं की गई. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के पैनल ने बयान में कहा है कि कथित तौर पर राशि लेने के बाद पीड़िता के परिवार ने उसे यह कहते हुए आरोपी के घर भेज दिया कि कोई भी उससे शादी नहीं करेगा.

आरोपी के ही घर पर रहने को मजबूर थी पीड़ित
घर से बाहर किए जाने के बाद पीड़िता 5 दिनों तक आरोपी के घर पर रही. इसके बाद पिता के माता-पिता ने उसे बड़ी बहन के पास भेज दिया. यौन उत्पीड़न के 16 दिनों के बाद पिछले 1 मार्च को पीड़िता की मौत हो गई. राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने इस मामले में स्वत: संज्ञान लेते हुए कहा है कि अगर मीडिया रिपोर्ट सही है तो पीड़िता के मानवाधिकारों का उल्लंघन हुआ है.

मानवाधिकार आयोग ने बिहार सरकार से मांगी रिपोर्ट
यही कारण है कि राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने बिहार के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक को नोटिस जारी कर  रिपोर्ट तलब किया है. मीडिया रिपोर्ट की मानें तो विगत 19 मार्च को पीड़िता के साथ उसी के गांव के एक व्यक्ति ने यौन उत्पीड़न किया. उस समय  पीड़िता वाजिदपुर थाना के अधिकार क्षेत्र में आने वाले इलाके में पशुओं को चराने गई थी. दुष्कर्म के बाद उसे चिकित्सा उपचार तक उपलब्ध नहीं कराया गया.

Tags: Bihar News, Darbhanga news, Minor girl assault, Minor girl rape

Source : hindi.news18.com