यूट्यूब से मिला आइडिया तो एक लाख में खरीद ली कुल्हड़ बनाने वाली मशीन – News18

मोहन प्रकाश/सुपौल. मिट्टी के बने कुल्हड़ में चाय पीने का मजा ही कुछ और है. यही कारण है कि गांव ही नहीं, अब शहरों में भी कुल्‍हड़ वाली चाय पॉपुलर होने लगी है. रेलवे स्टेशन और ग्रामीण घरों में मिलने वाले ये कुल्हड़ अब बड़े-बड़े मॉल और दुकानों की शान बनते जा रहे हैं. ऐसे में अब इसे भी अलग-अलग डिजाइन में तैयार कर बेचा जा रहा है. सुपौल जिले के सरायगढ़ भपटियाही प्रखंड के चिकनी वार्ड-08 निवासी लड्डू पंडित बीते एक साल से हर रोज एक हजार से अधिक कुल्हड़ बना रहे हैं. है. इसमें उसकी पत्नी, 75 वर्षीया मां और पिता भी हाथ बंटाते हैं. इससे हर महीने 50 से 60 हजार रुपए आसानी से कमा लेते हैं.

एक लाख में खरीद ली कुल्हड़ बनाने की मशीन
30 वर्षीय लड्डू पंडित बताते हैं कि वे कुम्हार समाज से हैं. मिट्टी का बर्तन बनाना उनका पुश्तैनी पेशा है. हालांकि, पहले वे पारंपरिक तरीके से ही मिट्टी के बर्तन बनाया करते थे. लेकिन, एक बार उन्होंने यूट्यूब पर मशीन से मिट्टी का बर्तन बनते हुए देखा. उन्होंने देखा कि अलग-अलग डिजाइन के कुल्हड़ की बाजार में डिमांड है. इसके बाद यूपी से एक लाख रुपए में कुल्हड़ बनाने वाली मशीन खरीद कर अपने गांव ले आया. फिर अपने 75 वर्षीय पिता रशुम लाल पंडित, मां मूर्ति देवी और पत्नी समतुल देवी के साथ मिलकर कुल्हड़ बनाना शुरू कर दिया.

हर दिन बना लेते हैं एक हजार कुल्हड़
लड्डू बताते हैं कि सभी लोगों के सहयोग से वे रोजनाएक हजार से अधिक कुल्हड़ बना लेते हैं. फिर उसे एक दिन धूप में सूखाकर भट्ठी में पका लेते हैं. इसके बाद मार्केट में बेचने के लिए कुल्हड़ तैयार हो जाता है.वे बताते हैं कि बाजार में प्रति डिजाइनदार कुल्हड़ दो रुपए का रेट मिल जाता है. इसकी ज्यादा डिमांड है. जबकुल्हड़ में चाय दी जाती है, तो सौंधापन खुशबू आने लगती है.

Tags: Bihar News, Local18, Supaul News

Source : hindi.news18.com