छत्तीसगढ़ समाचार: सुकमा में जवानों-नक्सलियों के बीच मुठभेड़, एक माओवादी ढेर – News18

सुकमा. छत्तीसगढ़ में सुकमा जिले में फिर सुरक्षाबलों और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ हुई. यह मुठभेड़ टेटमड़गु इलाके में हुई. मुठभेड़ उस वक्त शुरू हुई जब डीआरजी और कोबरा 208-204 बटालियन के जवान सर्चिंग पर निकले थे. उन्हें देखते ही नक्सलियों ने फायरिंग शुरू कर दी. इस फायरिंग के जवाब में जवानों ने भी गोलियां चलाईं. इस मुठभेड़ में एक आतंकवादी के मारे जाने की खबर है. सुरक्षाबलों को मौके से भारी मात्रा में हथियार और नक्सल सामग्री मिली है. इलाके में जवानों की सर्चिंग जारी है. एसपी किरण चव्हाण ने इस मुठभेड़ की पुष्टि की है.

गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में नक्सली लगातार वारदातों को अंजाम दे रहे हैं. 11 मार्च को दंतेवाड़ा-बीजापुर के सीमावर्ती इलाके में पुलिस की नक्सलियों से मुठभेड़ हुई थी. इस मुठभेड़ में भी एक नक्सली के ढेर हो गया था. यह एनकाउंटर थाना किरंदुल क्षेत्र के पुरंगेल तथा बीजापुर के पीडिया के जंगल में हुआ था. मुठभेड़ में कई नक्सली घायल हुए थे. इस दौरान पुलिस ने भारी मात्रा में गोला बारूद और रोजाना इस्तेमाल की चीजें बरामद की थीं. इलाके में पुलिस का सर्चिंग अभियान जारी है.

सुरक्षाबलों के कैंप से बौखलाए नक्सली
गौरतलब है कि, 21 फरवरी को भी दंतेवाड़ा बीजापुर के सरहदी क्षेत्र में पुलिस और नक्सलियों के बीच बड़ी मुठभेड़ हुई थी. यहां करीब एक घंटे तक गोलीबारी हुई थी. यह एनकाउंटर पीडिया और हितावर के जंगलों में हुई थी. यह गोलीबारी भी उस वक्त हुई थी, जब जवान गंगालूर थाना इलाके में सर्चिंग कर रहे थे. गौरतलब है कि छत्तीसगढ़ में नक्सली घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. दरअसल, नक्सलियों को हटाने के लिए सुरक्षाबल लगातार उनके इलाकों में कैंप स्थापित कर रहे हैं. इससे नक्सली बौखला गए हैं.

नक्सलियों के शांति प्रस्ताव को झटका
बता दें, नक्सलियों की इस हरकत से सरकार के शांति प्रस्ताव को झटका लग सकता है. हाल ही में सरकार ने नक्सलियों से शांति वार्ता की बात कही थी. इस पर उनके लीडर ने भी शांति वार्ता के लिए तैयार रहने की बात की है. इसके लिए भारत की कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी के प्रवक्ता विकल्प ने हाल ही में बाकायदा पत्र जारी किया है. ये पत्र बीजापुर के पत्रकारों को दिया गया था. इसमें विकल्प ने कहा कि शांति वार्ता के हमारी कुछ शर्ते हैं. इन शर्तों के मुताबिक, मुठभेड़ों और क्रॉस फायरिंग के नाम पर आदिवासियों की जघन्य हत्याएं बंद हों.

Tags: Chhattisgarh news, Raipur news

Source : hindi.news18.com