दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी माउंट एकांकागुआ फतह कर चुकी है काम्या – News18

आकाश कुमार/जमशेदपुर. मुंबई की रहने वाली 16 वर्षिय युवा पर्वतारोही काम्या कार्तिकेयन दुनिया की सबसे उंची चोटी माउंट एवरेस्ट फतह करेगी. इस अभियान को पूरा करने में टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन ( TSAF ) काम्या को सहयोग कर रहा है. इसके लिए काम्या 3 अप्रैल को काठमांडू पहुंचेगी और वहीं से 6 अप्रैल की अपने अभियान की शुरुआत करेगी.सात सप्ताह चलने वाले इस अभियान के दौरान कुल 4 कैंप आएंगे. पहला कैंप 6000 मीटर पर, दूसरा 6400 मीटर पर, तीसरा कैंप 7300 मीटर पर और चौथा कैंप 7,950 मीटर की उंचाई पर होगा.

लोकल 18 को जानकारी देते हुए काम्या ने कहा कि साल 2020 में दक्षिण अमेरिका की सबसे ऊंची चोटी माउंट एकांकागुआ फतह करके सभी को चौंका दिया था. उस समय वह महज 12 वर्ष की थीं. ऐसा करने वाली वो दुनिया की सबसे कम उम्र की लड़की बन गई थी. यह चोटी एशिया के बाहर सबसे ऊंची चोटी है. 6962 मीटर की ऊंचाई वाली माउंट एकॉन्कागुआ चोटी पर काम्या ने 1 फरवरी, 2020 को फतह किया और भारत का तिरंगा लहराया था. काम्या को एवरेस्ट एक्सपीडिशन के लिए टाटा स्टील एडवेंचर फाउंडेशन ने लद्दाख एक्सपीडिशन के दौरान सलेक्ट किया था. काम्या महज तीन साल की उम्र से पर्वतारोहण कर रही हैं.

काम्या के पिता एस कार्तिकेयन भारतीय नौसेना में कमांडर
उन्हें अपने पिता से पर्वतारोहन की प्रेरणा मिली है. मुंबई जैसे शहर में अक्सर जाम की स्थिति उत्पन्न होती थी. ऐसे में उनके पिता ज्यादातर पहाड़ों में चढ़ना पसंद करते थे. पिता पर्वतारोहण पर जाने के दौरान कई बार महिनों भर बाद वापस लौटते थे. इन्ही सब बातों को लेकर उसने पर्वतारोहण की शुरुआत की. काम्या के लिए इस उम्र में माउंट एवरेस्ट के शिखर पर पहुंचने का पहला प्रयास है. हम सब आशा करते है की वे सफलता पूर्वक हिमालय की चोटी में भारत का तिरंगा लहरा कर लौटे.

Tags: Jamshedpur news, Jharkhand news, Latest hindi news, Local18

Source : hindi.news18.com