किसान इन बीजों से करेंगे खेती, तो नहीं लगेंगे कीट, मुनाफा भी होगा दोगुना – News18

सिमरनजीत सिंह/शाहजहांपुर: कृषि क्षेत्र में अधिक उत्पादन लेने के चक्कर में हाइब्रिड बीजों से फसले उगाई जा रही हैं. बीज इजाद करने वाले ये भी दावा करते हैं कि हाइब्रिड बीजों से तैयार उपज में पौष्टिकता ज्यादा होती है. लेकिन शाहजहांपुर में एक ऐसा युवा किसान है, जो अपने खेतों में देसी बीज से फसलें उगा रहा है. इस किसान का कहना है कि हाइब्रिड बीज से तैयार उपज स्वास्थ्य के लिए नुकसानदायक होती हैं. जबकि देसी बीज से तैयार हुई उपज मानव स्वास्थ्य के लिए बेहद फायदेमंद होती है.

विकासखंड क्षेत्र पुवायां के छोटे से गांव बुझिया का युवा किसान ज्ञानेंद्र वर्मा पिछले 4 सालों से देसी बीजों से धान, गेहूं के साथ-साथ मोटे अनाज उगा रहा है. ज्ञानेन्द्र सभी फसलें प्राकृतिक तरीके से उगा रहा है. इस किसान का कहना है कि देसी बीजों से तैयार फसल से उनकी आय दोगुनी हो रही है, क्योंकि आमतौर पर बाजार में मिलने वाले भाव से इन फसलों का भाव भी अधिक मिलता है.

देसी बीज से उगाई फसल में नहीं लगते कीट

ज्ञानेंद्र वर्मा का कहना है कि देशी बीजों में रोग प्रतिरोधक क्षमता ज्यादा होती है. जिससे फसलों में कीट नहीं लगते. जबकि हाइब्रिड बीज से तैयार फसल में कीट ज्यादा लगते हैं. जिसकी वजह से उनमें बार-बार कीटनाशक का छिड़काव करना पड़ता है. तो वहीं हाइब्रिड बीज से तैयार उपज का स्वाद अलग होता है. पाचन तंत्र मजबूत होता है.

बार-बार नहीं खरीदने होंगे बीज

हाइब्रिड बीज से किसानों को कम समय में उत्पादन ज्यादा मिलता है, लेकिन यह बीज किसानों को बार-बार खरीदने पड़ते हैं. जिसकी वजह से उन पर आर्थिक बोझ ज्यादा पड़ता है. लेकिन देसी बीजों को बार-बार उगाया जा सकता है.

फसल का मिलता है दोगुना भाव

ज्ञानेंद्र वर्मा अपने खेत में तीन से चार तरीके के मोटे अनाज सावा, कोदा, रागी और मडुआ उगा रहे हैं. जिससे वह मल्टीग्रेन आटा और सत्तू बनाकर बाजार में बेच रहे हैं. देसी बीज से उगाए मोटे अनाज का बाजार में भाव ज्यादा मिलता है. ज्ञानेंद्र वर्मा अपने खेत में गेहूं की भी तीन वैरायटी गजानन, अन्नपूर्णा और कुदरत-9 पिछले 4 सालों से उगा रहे हैं. ज्ञानेंद्र ने बताया कि आमतौर पर हाइब्रिड गेहूं 2200 रुपए से 2300 रुपए प्रति क्विंटल बिक रहा है. जबकि वह देसी वैरायटी के गेहूं को 4000 से लेकर 4500 रुपए में बेच रहे हैं.

Tags: Farming, Hindi news, Local18

Source : hindi.news18.com