जमुई में शिक्षा विभाग के कार्यालय में लगी आग, घटना के पीछे साजिश की आशंका! – News18

गुलशन कश्यप/जमुई:- बिहार के जमुई जिला स्थित शिक्षा विभाग के कार्यालय में आए दिन कोई ना कोई ऐसी घटना सामने आती रहती है, जिसमें साजिश की बू नजर आती है. फिर से एक ऐसा ही मामला सामने आया है, जहां आग लगी की एक घटना में कई महत्वपूर्ण दस्तावेज जलकर राख हो गए. गौरतलब है कि जिला शिक्षा पदाधिकारी के खिलाफ दो दिन पहले ही विभागीय कार्रवाई का निर्देश दिया गया था और अब रिटायरमेंट के दिन कार्यालय में आग लग गई.

इसमें कई ऐसे महत्वपूर्ण कागजात जल गए, जो शिक्षा विभाग का कारनामों का पोल खोल सकता था. दरअसल जमुई जिला शिक्षा भवन में विगत मंगलवार की देर शाम आग लगी का मामला सामने आया. पहले तो यह बताया गया कि आग शॉर्ट सर्किट से लगी है और उसमें स्थापना कार्यालय के कई कागजात जल गए हैं. लेकिन अब इस पूरी घटना के पीछे साजिश के आशंका नजर आने लगी है.

दो दिन पहले ही जांच के दिए गए थे निर्देश
गौरतलब है कि जमुई जिला शिक्षा पदाधिकारी कपिलदेव तिवारी 30 अप्रैल को सेवानिवृत हुए हैं. इसके ठीक 1 दिन पहले 29 अप्रैल की दोपहर शिक्षा विभाग के निदेशक सह अपर सचिव सुबोध कुमार चौधरी ने पत्र जारी कर डीईओ कपिल देव तिवारी के विरुद्ध विभागीय कार्रवाई प्रारंभ करने का निर्देश दिया था. पत्र जारी होने के ठीक 2 घंटे बाद जिला शिक्षा भवन में आग लगी और उसमें सीढ़ियों के समीप रखे कई कागजात जल गए. सवाल यह है कि जो कागजात स्थापना कार्यालय में होने थे, वह कागजात सीढ़ियों के नीचे ठीक बिजली के मीटर के पास कैसे पहुंच गए.

ये भी पढ़ें:- मैथिली से बॉलीवुड तक का सफर, ओमपुरी और मोहन जोशी जैसे कलाकारों के साथ किया काम, जानें विजय मिश्रा की कहानी

लाखों के गबन से जुड़ा है मामला
जमुई जिला में शिक्षक के नाम पर कई गैर शिक्षकों व कई अन्य लोगों को 5 लाख 98 हजार 532 रुपए के रुपए का भुगतान कर दिया गया. इसके अलावा करीब 10 लाख रुपए से अधिक के भी वित्तीय अनियमितता का मामला शिक्षा विभाग में सामने आया था. इसे लेकर माध्यमिक शिक्षा निदेशक कन्हैया प्रसाद श्रीवास्तव ने बीते 1 जनवरी को जिला शिक्षा पदाधिकारी से स्पष्टीकरण पूछा था और तत्कालीन डीपीओ शिवकुमार शर्मा के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज करने का भी निर्देश दिया गया था.

अब इसी मामले में 29 अप्रैल को कार्रवाई के निर्देश दिए जाने के ठीक बाद शिक्षा भवन में आग लगी और सारे कागजात जलकर राख हो गए. हालांकि अब इस मामले में जमुई डीएम राकेश कुमार ने स्थापना के प्रभारी डीपीओ से रिपोर्ट मांगा है. उन्होंने कहा कि रिपोर्ट में आग लगने के बाद कौन-कौन सी फाइलें जली हैं, इससे सम्बंधित सभी जानकारी देने को कहा गया है. गौरतलब है कि इसी मामले में शिक्षा विभाग ने जांच के दौरान डीईओ के सहयोग नहीं करने का भी आरोप लगाया था और उनके खिलाफ जांच की कार्रवाई शुरू की थी.

Tags: Bihar News, Jamui news, Local18

Source : hindi.news18.com