फूलों से तैयार होती है यह दवा, डायबिटीज से लेकर पेट की बीमारियों के लिए कारगर – News18

धीर राजपूत/फिरोजाबाद: वैसे तो होम्योपैथी की अनेकों दवाएं हैं, जो गंभीर बीमारियों में भी रामबाण का काम करती हैं. लेकिन सल्फर नाम की होम्योपैथी मेडिसन बहुत ही लाभकारी और अच्छी मेडिसन में जानी जाती है. इसका प्रयोग होम्योपैथी चिकित्सक अनेकों बीमारियों में करते हैं. वहीं यह दवा हजारों साल पुरानी बताई जाती है, जो एक फूल से तैयार होती है. इस दवा को आमतौर पर लोग गंधक के नाम से भी जानते हैं.

आगरा के नेमीनाथ होम्योपैथी मेडीकल कॉलेज से बीएचएमएस की पढ़ाई कर चुके फिरोजाबाद के होम्योपैथिक चिकित्सक डॉ. नवनीत शुक्ला पिछले सात साल से अपना क्लीनिक चला रहे हैं. डॉक्टर शुक्ला ने लोकल 18 को बताया कि होम्योपैथी में सल्फर मेडिसन बहुत ही कारगर है. यह एक प्रकार की धातु होती है. इसका उपयोग कई सारी बीमारियों के लिए किया जाता है. लेकिन अधिकतर इसका उपयोग स्किन की समस्या के लिए किया जाता है.

डायबिटीज के लिए है रामबाण

डॉक्टर ने बताया कि गर्मियों में लोगों को अक्सर स्किन प्रॉब्लम हो जाती है, तो सल्फर मेडिसन देते हैं. इसके अलावा खुजली, पेट की बीमारी, छाजन, डायबिटीज और यहां तक के अगर कोई व्यक्ति शराब पीने का आदी है, तो उसे छुड़ाने के लिए भी इस दवा का प्रयोग किया जाता है. अन्य कई बीमारियों में भी सल्फर का प्रयोग किया जाता है. वहीं डॉक्टर ने बताया कि सल्फर मेडिसन का प्रयोग बिना डॉक्टर की सलाह के नहीं करना चाहिए.

सल्फर फ्लावर से तैयार होती है ये दवा

होम्योपैथिक चिकित्सक डॉक्टर नवनीत शुक्ला ने बताया कि सल्फर मेडिसिन को सल्फर नाम के पौधे से तैयार किया जाता है.  यह गंधक धातु के रूप में भी पाया जाता है. धातु को पोटेंटाइज करके इस होम्योपैथिक मेडिसन को तैयार किया जाता है. सल्फर के पौधे पर पीले रंग के फूल पाए जाते हैं, जिससे इस होम्योपैथिक मेडिसिन को तैयार किया जाता है. वहीं उन्होंने बताया कि इस दवा का प्रयोग पहले खुजली के लिए किया जाता था. हजारों साल पहले चिकित्सक इस दवा का प्रयोग करते थे.

Tags: Health tips, Hindi news, Local18

Disclaimer: इस खबर में दी गई दवा/औषधि और स्वास्थ्य से जुड़ी सलाह, एक्सपर्ट्स से की गई बातचीत के आधार पर है. यह सामान्य जानकारी है, व्यक्तिगत सलाह नहीं. इसलिए डॉक्टर्स से परामर्श के बाद ही कोई चीज उपयोग करें. Local-18 किसी भी उपयोग से होने वाले नुकसान के लिए जिम्मेदार नहीं होगा.

Source : hindi.news18.com