बहुत कमाल का है ऐप! खेत में यूरिया की जरूरत से लेकर मौसम तक की जानकारी – News18

समस्तीपुर : खेती किसानी के क्षेत्र में कार्य करने वाले किसानों के लिए अच्छी खबर है. अब यंत्र के कॉलर पट्टी के जरिए पता लगा सकेंगे कि आपके खेत में यूरिया की कितनी जरूरत है. इतना ही नहीं प्ले स्टोर से Meghdoot ऐप डाउनलोड कर आप रजिस्टर करेंगे तो आपको बारिश होने से पहले पूर्वानुमान का अपडेट मिल जाएगा. चाहे तो आप डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय पहुंचकर मौसम डिपार्टमेंट में जाकर रजिस्ट्रेशन करवा करवा सकते है. मेघ होने से 7 दिन पहले पूर्वानुमान का अपडेट आपके व्हाट्सएप पर दे दिया जाता है.

ऐसे काम करता है ऐप
डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय में LCC यंत्र उपलब्ध है. इस यंत्र के जरिए किसान अपने खेत में लगे फसल में कितना यूरिया की जरूरत है, यह पता लगा सकते हैं. इस यंत्र का पूरा नाम लीफ कलर चार्ट है. इसका उपयोग चावल-मक्का, गेहूं, इत्यादि फसलों की एन उर्वरक आवश्यकताओं को निर्धारित करने के लिए किया जाता है. LCC में चार हरी पट्टियां होती हैं, जिनका रंग पीले हरे से लेकर गहरे हरे तक होता है. यह फसल के पत्ते का हरापन निर्धारित करता है, जो इसकी एन सामग्री को इंगित करता है.

ऐसे करें यंत्र की उपयोग
डॉ. राजेंद्र प्रसाद केंद्रीय कृषि विश्वविद्यालय परिसर में बातचीत के दौरान विशेषज्ञ चिन्मय साहू ने कहा कि पौधे से सबसे ऊपरी, सबसे छोटी, पूरी तरह से विस्तारित पत्ती का चयन करें. यह भाग पौधों की एन स्थिति को सर्वोत्तम रूप से दर्शाता है. पत्ती के मध्य भाग को LCC पर रखें और उसके रंग की तुलना रंगीन पैनलों से करें. पत्ती को अलग न करें या नष्ट न करें. यंत्र के चार्ट पट्टी कलर के पीछे कलर की संख्या के आधार पर कितने कट्ठा या कितने हेक्टेयर में कितना उर्वरक की आवश्यकता है वह भी दर्शाया रहता है.

FIRST PUBLISHED : May 3, 2024, 15:46 IST

Source : hindi.news18.com