आग बुझाने के लिए एयरफोर्स ने संभाली कमान, MI हेलीकॉप्टर से हो रहा रेस्क्यू – News18

कमल पिमोली/श्रीनगर गढ़वाल: दावानल ने उत्तराखंड के सैकड़ों हैक्टेयर जंगल जलाकर राख कर दिए हैं. बीते एक हफ्ते से उत्तराखंड जंगल वनाग्नि से धधक रहे हैं. खासतौर पर पौड़ी, टिहरी, बागेश्वर, अल्मोड़ा के जंगलों में आग का विकराल रूप देखने को मिल रहा है. ऐसे में अब भारतीय सेना के जवानो ने वनाग्नि पर काबू पाने के लिए मोर्चा संभाल लिया है. भारतीय वायु सेना की 10 सदसीय टीम उत्तराखंड के श्रीनगर गढ़वाल पहुंच चुकी है. यहां से वायु सेना के जवान हेलीकॉप्टर के सहारे वनाग्नि को रोकने व नियंत्रित करने की कोशिशें कर रहे हैं.

बीते कुछ दिनों से लगातार धधक रहे जंगलों से लाखों की वन संपदा खाक हो चुकी है. वहीं वन्य जीवों पर भी संकट गहराया है. ऐसे में एयर फोर्स द्वारा मोर्चा संभालने के बाद वन विभाग ने थोड़ी राहत की सांस ली है.

एमआई 17 बचाव कार्य में उतरा
श्रीनगर गढ़वाल पहुंची वायु सेना की टीम MI 17 V5 हेलीकाप्टर के माध्यम से आग पर काबू पा रही है. इसके लिए एमआई 17 हेलीकॉप्टर पर बंबी बकेट को माउंट किया गया है. इसमें जीवीके जल विद्युत परियोजना की झील से पानी अपलिफ्ट कर बंबी बकेट में भरा जा रहा है. इसके बाद इस पानी का छिड़काव उन क्षेत्रों में किया जा रहा है जहां वनाग्नि की चपेट में जंगल का अधिकांश क्षेत्रफल है.

जीवीके झील से किया जा रहा पानी अपलिफ्ट
विंग कमांडर विवेक कुमार के नेतृत्व में एयरफोर्स के जवान इस रेस्क्यू कार्य को अंजाम दे रहे हैं. विंग कमांडर विवेक कुमार बताते हैं कि बंबी बकैट की छमता 5 हजार लीटर पानी स्टोर करने की है. लेकिन इसमें तीन हजार या 35 सौ लीटर से कम पानी ही एक बार में अपलिफ्ट किया जा रहा है. क्योंकि, ऊंचाई वाला क्षेत्र है इसलिए 5 हजार लीटर पानी एक बार में अपलिफ्ट करना खतरनाक हो सकता है. साथ ही हाईटेंशन की लाइन भी रेस्क्यू में दिक्कत पैदा कर रही है. कहते हैं कि चारों ओर आग के कारण विजिबलिटी भी कम है ऐसे में हेली को तभी उड़ाया जा रहा है, जब मौसम थोड़ा साफ हो.

वनाग्नि की घटना रोकने के लिए सेना की मदद
डीएम पौड़ी डॉ आशिष चौहान बताते हैं कि वनाग्नि की घटनाएं तेजी से बढ़ रही हैं, जिन्हें काबू में करना संभव नहीं हो पा रहा. अभी तक 139 एक्टिव फारेस्ट फायर संख्या थी. ऐसे में वनाग्नि पर काबू के लिए एयर फोर्स की मदद ली जा रही है. ताकि, वन संपदा को बचाया जा सके. आगे उन्होंने कहा कि आज दिनभर रेस्क्यू चलाया जाएगा. सेटेलाइट के माध्यम से जिन क्षेत्रों में वनाग्नि की घटनाएं हैं. उसकी रिपोर्ट ली जा रही है.

Tags: Forest fire, Local18, Pauri Garhwal News

Source : hindi.news18.com