इस गांव में हैं 300 किलो की चारपाई, 100 साल पुरानी, एक साथ सो सकते हैं 8 लोग – News18

भरतपुर. भरतपुर जिले का नगला भांड गांव आज भी अपनी प्राचीन सभ्यता संभाले हुए है. इस गांव की कई विशेषता हैं. वो ये कि इस गांव में 300 किलो वजनी चारपाई हैं. इन पर एक साथ 8 लोग सो सकते हैं. दूसरी खासियत ये है इस गांव में एक ही परिवार बसा है. इस परिवार के गांव में 125 घर इनके ही हैं.

ग्रामीणों ने बताया हमारे पूर्वज चंदे कसाना का बयाना तहसील में पैतृक गांव रारौदा था. वहां उन्हें नहरा क्षेत्र का मुखिया माना जाता था. चंदे कसाना न्यायकारी व्यक्ति थे. उनके नाम से कचहरी चलती थी.

300 किलो की चारपायी
मुखिया का परिवार आगे बताता है चंदे कसाना ने हमेशा लोगों को आपसी भाईचारे से रहना और विरोध मिटाने का काम किया था. चंदे कसाना रारौदा से अपने बेटों के साथ करीब 70 वर्ष पूर्व ग्राम पंचायत सालाबाद आए. यहां पर उन्होंने अपना अलग गांव नगला भांड बसाया. चंदे कसाना के 6 बेटे थे. बंटवारा करते समय उन्होंने उपहार स्वरूप सन 1920 में बनी 6 चारपाई(खाट) बेटों को दीं. ये चारपायी अब भी हैं. इनका वजन करीब 300 किलो है

एक चारपाई पर एक साथ 8 लोग
ये चारपाई इतनी बड़ी है कि इस पर एक साथ 7 से 8 लोग आराम से सो सकते हैं. इसकी मजबूती आज भी बरकरार है. गांव में आज भी 6 चारपाई मौजूद हैं जो अपने पूर्वजों की याद ताजा करती हैं.ग्रामीणों ने इन चारपाईयों को बहुत संभाल कर रखा है. आज उन्हीं 6 बेटों के 125 परिवार गांव में मौजूद हैं. गांव में आज भी आपसी भाई चारा है.गांव के लोग बताते हैं अब इतनी भारी भरकम चारपाई बहुत कम दिखाई देती हैं. इन चारपाइयों को देखने आसपास के लोग आते हैं.

FIRST PUBLISHED : May 6, 2024, 17:22 IST

Source : hindi.news18.com