पपीता की खेती करने पर जिले के किसानों को मिलेगा 45 हजार रुपये का अनुदान – News18

बेगूसराय : हमारा देश कृषि प्रधान देश है यहां विभिन्न तरह की खेतीबाड़ी की जाती है. ऐसे में बिहार के कुछ क्षेत्रों में पपीते की खेती की जा रही है. पपीते की खेती को सरकार भी बढ़ावा दे रही है. इसके तहत सरकार अब किसानों को टिश्यू कल्चर से पपीता की खेती करने के लिए प्रोत्साहित कर रही है.
ऐसे में अब तक बिहार के खगड़िया जिले की पहचान पहले भले ही मक्का उत्पादन के तौर पर होती रही है. लेकिन अब यहां के प्रगतिशील किसानों को मुनाफे वाली फसलों की खेती यानी पपीता की बागवानी से जोड़ने की तैयारी उद्यान विभाग कर रहा है.

इसी कड़ी में पपीते की खेती की अच्छी संभावना को देखते हुए सरकार किसानों को पपीते के बगीचे लगाने के लिए 75 फीसदी तक अनुदान देगी. बता दें कि सरकार भी बागवानी के क्षेत्र में पपीता की खेती में अच्छी संभावना को देखते हुए किसानों को लगातार प्रोत्साहित कर रही है.

वित्तीय वर्ष 2024-2025 में 10 हेक्टेयर में पपीता खेती का लक्ष्य
खगड़िया के जिला उद्यान पदाधिकारी रजनी सिन्हा ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष में 10 हेक्टेयर में पपीता की बागवानी का लक्ष्य प्राप्त हुआ. किसानों को एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना के तहत पपीते की खेती पर 45,000 रुपया अनुदान मिलेगा. एक एकड़ में किसानों को 60 हजार तक की लागत खर्च पपीते की खेती में आती है . पपीता किसानों को एक हेक्टेयर में पपीते की खेती के लिए सिर्फ 15,000 रुपये खर्च करने होंगे. ऐसे में किसानों को 6.50 रुपये प्रति पौधा जमा करना होता है. इसके बाद किसान को पौधा उपल्ब्ध कराया जाता है.

ऐसे लें योजना का लाभ
आपको बता दें कि पहले आओ पहले पाओ के आधार पर किसानों को पपीता की खेती पर अनुदान की उपलब्ध कराया जायेगा. ऐसे में अगर आप खगड़िया के किसान हैं और पपीते की खेती में रुचि रखते हैं तो एकीकृत बागवानी विकास मिशन योजना के तहत पपीते की खेती पर सब्सिडी का लाभ लेने के लिए अपने प्रखंड उद्यान कार्यालय या फिर जिला उद्यान कार्यालय आकर योजना के संबंध में जानकारी प्राप्त करते हुए horticulture.bihar.gov.in वेबसाइट के लिंक पर जाकर आवेदन कर सकते हैं.

FIRST PUBLISHED : May 6, 2024, 21:08 IST

Source : hindi.news18.com