सुनीता विलियम्स तीसरी बार नहीं जा सकीं अंतरिक्ष, आखिर क्यों टालनी पड़ी उड़ान? – News18

केप कनेवरल. भारतीय मूल की अमेरिकी एस्ट्रोनॉट सुनीता विलियम्स की तीसरी अंतरिक्ष यात्रा अंतिम समय में टालनी पड़ी है. दरअसल वह बोइंग के नए स्टारलाइनर स्पेस कैप्सूल के साथ अंतरिक्ष में जाने वाले पहली चालक दल की हिस्सा थी. हालांकि लंबे समय से प्रतीक्षित इस परीक्षण उड़ान को तकनीकी समस्या के कारण मंगलवार को रद्द कर दिया गया. रॉकेट के दूसरे चरण में एक वाल्व के साथ समस्या के कारण स्थगन की घोषणा नासा के लाइव वेबकास्ट के दौरान की गई थी.

बोइंग स्टारलाइनर को भारतीय समयानुसार सुबह 8.04 बजे फ्लोरिडा के केप कैनावेरल में कैनेडी स्पेस सेंटर से उड़ान भरने के लिए निर्धारित किया गया था. दो सदस्यीय दल- नासा के 61 वर्षीय अंतरिक्ष यात्री बैरी विल्मोर और 58 साल की सुनीता विलियम्स- को प्रक्षेपण गतिविधियों को सस्पेंड करने से लगभग एक घंटे पहले अंतरिक्ष यान में अपनी सीटों पर बांध दिया गया था. दूसरे लॉन्च प्रयास की प्रतीक्षा करने के लिए तकनीशियनों द्वारा कैप्सूल से उनकी सहायता की जाएगी.

यह भी पढ़ें- पुंछ हमले में शामिल आतंकियों का किसने जारी किया पोस्टर? पुलिस और सेना कर रही इनकार तो किसने रखा 20 लाख का इनाम

दोनों को फ्लोरिडा के केप कैनावेरल स्पेस फोर्स स्टेशन से यूनाइटेड लॉन्च एलायंस एटलस-वी रॉकेट के जरिये लॉन्च करना था, जिसकी लिफ्टऑफ मंगलवार को सुबह 8.04 बजे निर्धारित थी.

विलियम्स, जो लगभग एक दशक से वाणिज्यिक चालक दल की उड़ान के लिए कतार में इंतजार कर रही थीं, को अंतरिक्ष यान विकास में उनके व्यापक अनुभव के कारण शुरुआत में वर्ष 2015 में यह अभियान सौंपा गया था. बाद में उन्हें 2022 में सीएफटी मिशन के लिए नियुक्त किया गया. मिशन के लिए अगली उपलब्ध लॉन्च विंडो मंगलवार रात है, लेकिन दूसरा लिफ्टऑफ़ प्रयास कब किया जाएगा, इसके बारे में तुरंत कोई निर्णय नहीं लिया गया.

यह भी पढ़ें- प्रज्वल रेवन्ना के वीडियो किसने किए जारी? बीजेपी नेता ने लगाए गंभीर आरोप, डीके शिवकुमार ने दिया जवाब

लगभग 10-दिवसीय मिशन के दौरान, विल्मोर और विलियम्स स्टारलाइनर की प्रणालियों और क्षमताओं का गहन परीक्षण करेंगे, जिससे अंतरिक्ष यान के लिए अंतरिक्ष स्टेशन के लिए परिचालन चालक दल की उड़ानें शुरू करने का मार्ग प्रशस्त होगा. इस क्रू फ़्लाइट टेस्ट के सफल समापन से स्टारलाइनर आईएसएस से कर्मियों को नियमित रूप से लाने और ले जाने के एक कदम और करीब आ जाएगा, जिससे अंतरिक्ष में संयुक्त राज्य अमेरिका की स्वतंत्र पहुंच और मजबूत हो जाएगी.

Tags: Nasa, Space news

Source : hindi.news18.com