150 का पोर्टेबल फ्रिज, बिजली-जगह का झंझट नहीं, पानी मिलेगा कूल-कूल – News18

सागर: बुंदेलखंड में इन दिनों प्रचंड गर्मी पड़ रही है. संभाग के सभी 6 जिलों में पर 41 डिग्री के ऊपर है. मौसम को देखते हुए एक तरफ स्वास्थ्य विभाग में हीट वेव को लेकर एडवाइजरी जारी की है, तो दूसरी तरफ लोगों को देसी फ्रिज की याद आने लगी है. साथ में अक्षय तृतीया का पर्व होने के चलते खूब खरीदारी हो रही है. देसी मटकों के साथ राजस्थानी, गुजराती की भी डिमांड है. खासकर डिजाइन वाले राजस्थानी मटके खूब खरीदे जा रहे हैं. उनकी कीमत भी अच्छी मिल रही है.

टोटी वाले देसी मटके की है खूब डिमांड 
बता दें कि सागर में तैयार होने वाली मिट्टी के घड़ों की कीमत 100 रुपए से लेकर शुरू हो जाती है. इसमें टोटी वाले मटके 150 रुपए में मिल जाते हैं. यहां की मिट्टी में बारीक कंकड़ होने की वजह से पानी का रिसाव होता है. इनमें हवा लगने पर पानी जल्दी ठंडा होता है और स्वाद भी अच्छा रहता है. संभाल कर रखें तो यह 2- 3 साल तक ठंडा पानी पीने को मिलेगा.

सुराही में मिट्टी की सुगंध वाला पानी
शहडोल के पास चंदिया इलाके से आने वाली सुराही भी इन दिनों बाजार में दिखाई दे रही है. इनकी बिक्री थोड़ी कम है, लेकिन यह राजा-महाराजाओं के समय से चली आ रही है. जिसमें भरने वाला पानी ठंडा होने के साथ-साथ मिट्टी की सुगंध देने वाला होता है. हालांकि इसमें पानी थोड़ी देर में ठंडा हो पाता है. इसकी कीमत 180 से लेकर 250 तक है.

डिजाइनर मटके बन रहे पसंद
डिजाइन वाले राजस्थानी मटके भी लोगों को खूब पसंद आ रहे हैं. इनकी अच्छी डिमांड है.  बलराम प्रजापति बताते हैं कि उन्होंने गर्मी शुरू होने के साथ करीब 350 मटके गुजरात से बुलवाए थे. जो अब तक बिक गए हैं. एक और गाड़ी का आर्डर दिया था, लेकिन उसकी सप्लाई अभी तक नहीं हो पाई है. इनकी कीमत 400 तक है. यहां की मिट्टी मक्खन के जैसी होती है. इस वजह से मटका मजबूत होता है. खूबसूरत डिजाइन की वजह से लोग इसे खूब खरीदते हैं. इनमें टोटी और ढक्कन दोनों होते हैं.

गुजराती की तरह ही राजस्थानी मटके भी होते हैं. इनमें छोटे मझोले बड़े सभी आकर में मटके मिल जाते हैं. लोग अपनी सुविधा के अनुसार खरीद रहे हैं. यह पाटीदार होने के साथ ही ढक्कन वाले भी होते हैं.

Tags: Heath, Latest hindi news, Local18, Madhya pradesh, Sagar news

Source : hindi.news18.com