Live: 'मालदीव से तुरंत निकलें बाहर…' नेतन्याहू सरकार ने इजरायलियों से कहा – News18

माले. इजरायल के विदेश मंत्रालय ने मालदीव में रह रहे इजरायली नागरिकों को देश छोड़ने की सलाह दी है. यह सलाह मालदीव सरकार द्वारा रविवार को इजरायली नागरिकों के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के ऐलान को देखते हुए दी गई है. इससे पहले मालदीव की मुइज्जू सरकार ने रविवार को बताया कि उसने इजरायली पासपोर्ट वालों पर बैन लगाने के लिए कानून में बदलाव करने का फैसला किया है. गाजा पर इजरायली सेना के ताबड़तोड़ हमलों को लेकर लोगों में बढ़ते गुस्से के बीच यह फैसला लिया गया है.

समाचार पोर्टल सन.एमवी की खबर के मुताबिक, राष्ट्रपति मुइज्जू के ऑफिस में रविवार को एक इमर्जेंसी प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई गई, जिसमें गृह मंत्री अली इहुसन ने इस फैसले का ऐलान किया. उन्होंने कहा, ‘कैबिनेट ने इजरायली पासपोर्ट वालों के मालदीव में दाखिल होने पर बैन लगाने के लिए कानून में जरूरी बदलाव जल्द से जल्द करने का आज फैसला किया.’ कैबिनेट ने इस प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए मंत्रियों की एक विशेष समिति गठित की है.

फिलिस्तीन की मदद के लिए तैनात करेगा खास दूत
बता दें कि मालदीव में हर साल दस लाख से अधिक पर्यटक आते हैं. इसमें इजराइल से लगभग 15,000 पर्यटक शामिल हैं. मंत्रिमंडल ने उन क्षेत्रों की पहचान करने के लिए एक विशेष दूत नियुक्त करने का भी फैसला किया है, जिनमें फिलिस्तीन को मालदीव से मदद की जरूरत है.

इस बीच कतर, अमेरिका और मिस्र ने हमास और इजरायल जंग रोकने की अपील की है. इन तीनों देशों ने एक संयुक्त बयान जारी करते हुए हमास और इजरायल से अमेरिकी प्रस्ताव को मंजूर करते हुए समझौते पर पहुंचने का आह्वान किया है. इसमें कहा गया है कि गाजा में युद्ध विराम और बंधकों की रिहाई के लिए इजरायल और हमास बातचीत करें. अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने शुक्रवार को इस प्रस्ताव का खुलासा किया था, जिसके तहत गाजा में जंग को रोका जाएगा और सभी बंधकों को रिहा किया जाएगा.

इजरायली गोलीबारी में एक फिलिस्तीनी लड़के की मौत
उधर वेस्ट बैंक में फिलिस्तीनी सूत्रों ने बताया कि जेरिको के दक्षिण में अकाबत जाबेर शरणार्थी शिविर में इजरायली सेना की गोलीबारी में एक फिलिस्तीनी लड़के की मौत हो गई. सिन्हुआ समाचार एजेंसी ने फिलिस्तीनी सुरक्षा सूत्रों के हवाले से बताया कि इजरायली सेना ने शिविर पर धावा बोला और शिविर में पश्चिमी कब्रिस्तान के पास दो लोगों पर गोली चलाई. बाद में, फिलिस्तीनी रेड क्रिसेंट सोसाइटी ने एक बयान में कहा कि उसे दक्षिणी चेकपॉइंट पर 15 साल के एक लड़के का शव मिला. वहीं गोलीबारी में एक व्यक्ति घायल हो गया.

इस घटना को लेकर इजरायली सेना ने कोई टिप्पणी नहीं की है, लेकिन इजरायली सेना ने अक्सर कहा है कि वेस्ट बैंक में उसके छापे ‘आतंकवाद विरोधी अभियान’ होते हैं. फिलिस्तीनी स्वास्थ्य मंत्रालय के अनुसार, पिछले अक्टूबर से अब तक वेस्ट बैंक और यरुशलम में 500 से अधिक फिलिस्तीनी मारे जा चुके हैं.

Tags: Israel attack on palestine, Israel News, Maldives

Source : hindi.news18.com