Mandsaur Seat : बीजेपी का गढ़ है मंदसौर, अब तक सिर्फ 4 बार ही जीत पाई कांग्रेस – News18

मंदसौर. शिवना नदी के सुंदर घाटों के बीच बसे मंदसौर शहर की अपनी अलग पहचान है. पशुपति नाथ जी के मंदिर और अफीम की खेती के लिए पूरे देश में मशहूर उज्जैन संभाग में आने वाली मंदसौर लोकसभा सीट मालवा क्षेत्र की अहम सीटों में से एक है. मंदसौर लोकसभा सीट बीजेपी का गढ़ मानी जाती है. इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि कांग्रेस को इस सीट पर सिर्फ चार बार जीत मिली है. 2009 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की ओर से मीनाक्षी नटराजन ने जीत दर्ज की थी. इसके बाद पिछले 10 साल से बीजेपी काबिज है.

2024 के लोकसभा चुनाव में इस सीट पर बीजेपी के सुधीर गुप्ता और कांग्रेस के दिलीप सिंह गुर्जर के बीच मुकाबला हुआ. कांग्रेस ने नागदा के चार बार के विधायक दिलीप सिंह गुर्जर को लोकसभा उम्मीदवार बनाया. 4 जून को परिणाम आएगा. 2014 के चुनाव में सुधीर गुप्ता ने मीनाक्षी नटराजन को 303649 मतों से पराजित किया था, इसके बाद 2019 में बीजेपी के सुधीर गुप्ता ने कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन को 376734 मतों से हराया था. सुधीर गुप्ता को 847786 मत मिले और कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन को 471452 मत प्राप्त हुए थे. कुल 1361251 मतदाताओं ने मत डाले थे. सुधीर गुप्ता इस सीट पर वर्तमान में सांसद हैं.

मसालों की खेती के लिए भी मंदसौर शहर जाना जाता है. इतना ही नहीं, यहां पर कई दर्शनीय और धार्मिक स्थल मौजूद हैं, जिनमें पशुपतिनाथ मंदिर, नालछा माता का मंदिर, यशोधर्मन विजय स्तंभ, सीतामऊ के कोटेश्वर महादेव मंदिर, हिंगलाज गढ़ का किला, गांधी सागर बांध और गांधी सागर अभ्यारण्य शामिल हैं.

मंदसौर लोकसभा क्षेत्र पर एक नजर
मंदसौर लोकसभा क्षेत्र जिसमें आठ विधानसभा क्षेत्र शामिल हैं जिसमें मंदसौर जिले की चार, नीमच जिले की तीन और रतलाम जिले की एक विधानसभा सीट शामिल है. मंदसौर लोकसभा क्षेत्र एक तरफ राजस्थान के चित्तौड़गढ़ जिले से, दूसरी तरफ राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले से, तीसरी तरफ राजस्थान के झालावाड़ जिले से और चौथी तरफ मध्य प्रदेश के रतलाम जिले से लगा हुआ है. लोकसभा क्षेत्र में मतदाता सूची में 18 लाख 92 हजार 12 मतदाता मतदान के योग्य थे. 2024 के आम चुनाव में चुनाव आयोग ने 2151 मतदान केंद्र बनाए गए.

2009 में मीनाक्षी नटराजन ने रोका था पांडेय के विजयी रथ
पिछले लगातार पांच चुनाव में विजयश्री प्राप्त करने वाले लक्ष्मीनारायण पांडेय के विजयी रथ को रोकने के लिए 2009 के चुनाव में कांग्रेस ने मीनाक्षी नटराजन को टिकट देकर मैदान में उतारा था. उन्होंने पांडेय को 30819 मतों से पराजित कर यह सीट कांग्रेस के नाम करने की थी. साथ ही मंदसौर सीट पर पहली महिला सांसद बनने का रिकॉर्ड अपने नाम करवाया था. इस चुनाव में कांग्रेस की मीनाक्षी नटराजन को
373532, भाजपा के डॉ. लक्ष्मीनारायण पाण्डेय को 342713, बसपा के भेरूलाल मालवीय को 10696, इएआईएफबी के शेख अजीजउद्दीन कुरैशी को 3962, बीएमएमएम की बानो बी को 2449 वोट मिले. इस
चुनाव में 7 निर्दलीय प्रत्याशियों ने भी भाग्य आजमाया था.

2014 में सुधीर गुप्ता ने बीजेपी को वापस दिलाई सीट
पिछले चुनाव में पराजय झेलने वाली बीजेपी ने 2014 में सुधीर गुप्ता को टिकट देकर मैदान में उतारा और उन्होंने कांग्रेस की पिछले चुनाव में विजयी मीनाक्षी नटराजन को 303649 मतों से पराजित कर बीजेपी को फिर से सीट पराजय वापस दिलाई थी. मंदसौर लोकसभा सीट पर 2024 के आम चुनाव में आठ उम्मीदवार मैदान में रहे जिसमें बीजेपी के सुधीर गुप्ता, कांग्रेस के दिलीप सिंह गुर्जर, बहुजन समाज पार्टी के कन्हैयालाल मालवीय के अलावा निर्दलीय रूप से इस्माइल खान मेव, मुरलीधर, विजय रण, सईद अहमद और सुशील चुनाव मैदान में रहे.

2024 में मुख्य मुकाबला भारतीय जनता पार्टी के सुधीर गुप्ता और कांग्रेस के दिलीप गुर्जर के बीच हुआ. 13 मई को मंदसौर सीट पर मतदान हुआ. मंदसौर सीट पर इस बार बीजेपी के उम्मीदवार सुधीर गुप्ता के समर्थन में मुख्यमंत्री डॉ मोहन यादव, मंदसौर और नीमच में रोड शो किए. कांग्रेस उम्मीदवार दिलीप सिंह गुर्जर के समर्थन में यहां पर राजस्थान के कांग्रेस नेता सचिन पायलट रोड शो किए.

मंदसौर संसदीय क्षेत्र के इतिहास
मंदसौर सीट पर बीजेपी के लक्ष्मीनारायण पांडे का छह बार कब्जा रहा. इस सीट पर 1957 से 2014 के लोकसभा चुनाव में कांग्रेस ने कुल चार बार तथा भाजपा ने सात पर कब्जा जमाया है, जबकि जेए ने, बीएलडी ने 1 तथा बीजेएस ने 2 पर इस सीट पर विजयश्री प्राप्त की. इस सीट पर अभी तक के चुनाव में भी निर्दलीय ने सांसद बनने का सौभाग्य प्राप्त नहीं किया. इस सीट पर पहले सांसद कांग्रेस से माणकलाल बने थे.

Tags: Loksabha Election 2024, Loksabha Elections, Mandsaur news, Mp news

Source : hindi.news18.com